Breastfeeding: स्तनपान के दौरान मसालेदार भोजन का सेवन क्यों नहीं करना चाहिए

Read in English
spicy foods during pregnancy

Breastfeeding mom: स्तनपान के दौरान मां के आहार का असर शिशु पर भी पड़ता है।

Breastfeeding: स्तनपान का कोई स्वस्थ विकल्प नहीं है। नवजात शिशु को सभी जरुरी पोषण देने के लिए मां का दूध पिलाने की जरुरत होती है। इसलिए सभी स्तनपान कराने वाली माताओं को अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ जीवनशैली और खानपान का ध्यान रखना होता है। जब आपका शिशु इस दुनिया में आता है तो आप हर तरह से उसका ख्याल रखने की कोशिश करती हैं और उसके विकास के लिए हर जरुरी कोशिश करती हैं। ऐसे में आप जो भी खाती हैं, वहीं पोषण आपके शिशु को मिलता है। इसलिए आपको कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए जो आपके शिशु के लिए हानिकारक हो सकते हैं। आइए जानते हैं कि स्तनपान के दौरान मसालेदार भोजन का सेवन क्यों नहीं करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: स्तनपान से जुड़ी बुरी आदतें जो शिशु को नुकसान पहुंचा सकती हैं]

स्तनपान के दौरान क्यों ना करें मसालेदार भोजन का सेवन

आपका आहार ब्रेस्ट मिल्क को बदलता है

spicy foods during pregnancy
Breastfeeding Mom: आप क्या खाती हैं उससे ब्रेस्ट मिल्क का स्वाद भी बदल सकता है।

आप जो भी खाती है उसका असर आपके ब्रेस्ट मिल्क(breast milk) पर पड़ता है। आप किस तरह का आहार ले रही हैं, उससे आपके ब्रेस्ट मिल्क का स्वाद बदल जाता है। जैसे, अगर आप अपने आहार में लहसुन की अधिक मात्रा डालती है तो आपके ब्रेस्ट मिल्क का स्वाद भी उसी तरह हो सकता है। इसलिए अगर किसी तरह की डाइट लेने से आपका शिशु असहज हो रहा है तो आपको अपनी डाइट में बदलाव करने चाहिए।

संकेत कि आपका शिशु मसालेदार भोजन से संवेदनशील है

spicy foods during pregnancy
अगर शिशु परेशान है तो इसके लिए आपका आहार जिम्मेदार हो सकता है।

बहुत सी महिलाएं स्तनपान के दौरान मसालेदार भोजन करना पसंद करती हैं। ऐसा कोई अध्ययन नहीं है जिससे कहा जाए कि स्तनपान करने वाली महिला अगर मसालेदार खाना खाती हैं तो शिशु को असहजता और परेशानी हो सकती है। हालांकि आप कुछ संकेतों से जान सकती हैं कि आपका शिशु मसालेदार भोजन से संवेदनशील हैं। [ये भी पढ़ें: पेय पदार्थ जिनका सेवन स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को करना चाहिए]

  • शिशु का अधिक समय तक रोना
  • शिशु की त्वचा पर रिएक्शन होना
  • डायरिया
  • रात को अचानक शिशु का उठ जाना
  • दूध पिलाने के बाद चिड़चिड़ा हो जाना
  • हर समय असहज रहना

अगर आपका शिशु मसालेदार भोजन से संवेदनशील है तो क्या करें
अगर आप मसालेदार भोजन का सेवन कर रही हैं और आपको अपने शिशु में ऊपर दिए गए लक्षण दिख रहे हैं तो आपको इन खाद्य पदार्थों का सेवन एक सप्ताह के लिए बंद कर देना चाहिए। इस दौरान अपने शिशु के बरताव में हो रहे बदलावों को देखें। अगर आप मसालों का सेवन नहीं छोड़ सकते हैं तो इनका सेवन सीमित मात्रा में ही करें। [ये भी पढ़ें: स्तनपान कराने से मां का स्वास्थ्य कैसे बेहतर होता है]

शिशु के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आपको स्वस्थ आहार लेना चाहिए। इस आर्टिकल को आप इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "