पीरियड्स के दौरान कौन सी एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए

what exercises should you avoid during your period

पीरियड्स के दौरान भी महिलाओं को रोजमर्रा का हर काम करना पड़ता है। पीरियड्स के दौरान काम के साथ-साथ खुद को स्वस्थ रखने की जिम्मेदारी भी आपकी ही होती है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आप एक्सरसाइज करते हैं। महिलाओं को पीरियड्स के दौरान भी एक्सरसाइज करनी आवश्यक होती हैं। एक्सरसाइज करने से पीरियड्स के लक्षण जैसे दर्द, ऐंठन, कमर दर्द, वाटर रिटेंशन और चिड़चिड़ाहट आदि को कम करने में मदद मिलती है। इसका मतलब यह नहीं है कि हर प्रकार की एक्सरसाइज आपके लिए लाभकारी होता है। पीरियड्स के दौरान आपको इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि आप कौनसी एक्सरसाइज कर रहीं है। आइए जानते हैं कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कौन-कौन सी एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। [ये भी पढ़ें: पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के उपचार के लिए प्राकृतिक उपाय]

1.कार्डियो एक्सरसाइज: कार्डियोवस्कुलर एक्सरसाइज स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है लेकिन पीरियड्स के दौरान इसे ना करना ही ठीक होता है। कार्डियो करने में ज्यादा मेहनत लगती है जिससे पीरियड्स के दौरान शरीर पर दबाव बढ़ जाता है। इसलिए कार्डियो एक्सरसाइज या तो ना करें या फिर थोड़े से समय के लिए ही करें।

2.कुछ योगासन: पीरियड्स के दौरान कुछ योगासन जैसे शीर्षासन, हलासन आदि नहीं करने चाहिए। इस तरह की एक्सरसाइज पीरियड ब्लड के प्रवाह को रोक देती है जिससे पीरियड्स रेगुलर ना होने की समस्या पैदा हो जाती है। साथ ही इस प्रकार के योगासन करते समय आपको काफी असुविधा भी होती है। [ये भी पढ़ें: कौन सी चीजें आपके पीरियड्स को प्रभावित करती हैं]

3.वेट ट्रेनिंग: हालांकि यह एक्सरसाइज आपकी ताकत और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाती है लेकिन पीरियड्स के दौरान ज्यादा वजन उठाने से आपको असुविधा तो होती ही है साथ ही दर्द और ऐंठन भी बढ़ जाती है। इसलिए वेट ट्रेनिंग ना करना ही फायदेमंद होता है।

4.डांस के कुछ स्टाइल: पीरियड्स के दौरान डांस करने से मन खुश रहता है लेकिन कुछ डांस स्टाइल के दौरान आपको पूरे शरीर को काफी लचकाना पड़ता है। ऐसे डांस स्टाइल जिनमें शरीर को उल्टा करना पड़े उन्हें नहीं करना चाहिए। इससे आपके पीरियड्स के दौरान रक्तस्राव अनियमित हो सकता है और आपको अन्य कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। पीरियड्स के दौरान बी-बोइंग, एरियल आदि एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। [ये भी पढ़ें: ओव्यूलेशन के लक्षण जो हर महिला को पता होने चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "