बच्चे को जन्म देने के बाद वेजाइना में क्या बदलाव आते हैं

What are the changes your vagina face after birth of a child

एक बच्चे को जन्म देने के बाद किसी भी महिला की जिंदगी बहुत बदल जाती है। आप अपने जरिए किसी और को इस दुनिया में लाते हैं। इस कारण महिलाओं को कई शारीरिक बदलावों से गुजरना होता है। जब महिला बच्चे को जन्म देती है तो गर्भ में पल रहा बच्चा डिलीवरी के दौरान सर्विक्स से होता हुआ वेजाइना के जरिए बाहर आता है। इस बीच, वेजाइना की ओपनिंग बच्चे के लिए जगह बनाने के कारण स्ट्रेच हो जाती है। इसलिए बच्चे के जन्म के बाद शरीर के बाकी हिस्सों की तरह ही वेजाइना भी कई बदलावों का सामना करती है। ये बदलाव काफी सामान्य भी हो सकते हैं क्योंकि आपका शरीर गर्भावस्था के बाद वैसा नहीं रहता है जैसा गर्भावस्था के पहले था। जरुरी है कि आप इन बदलावों को जानें ताकि आप सामान्य और असामान्य बदलावों में अंतर कर पाएं। [ये भी पढ़ें: अचानक ब्रेस्ट का आकार बढ़ने के पीछे क्या कारण हो सकते हैं]

ड्रायनेस
बच्चे के जन्म के बाद अधिकतर महिलाएं वेजाइनल ड्रायनेस की शिकायत करती हैं। बच्चे को स्तनपान कराने के कारण आपके शरीर में एस्ट्रोजेन का लेवल गिर जाता है जिसके कारण शरीर में इस हार्मोन की कमी हो जाती है और इस कारण आपको ड्रायनेस की समस्या हो सकती है।

वेजाइना में दर्द महसूस होना
वेजाइना और एनस के बीच के हिस्से को पेरिनियम कहते हैं। यह वेजाइना का ही एक हिस्सा है। बच्चे के जन्म के दौरान पेरिनियम के टूटने की संभावनाएं होती हैं। अगर आपको बच्चे के जन्म के बाद काफी समय तक दर्द महसूस होता है तो इस बात की संभावनाएं हो सकती हैं कि डिलीवरी के दौरान पेरिनियम टूट गया है। [ये भी पढ़ें: महिलाओं में होने वाले यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन को ठीक करने के लिए उपचार]

वेजाइना का फैलना
बच्चे के जन्म के बाद वेजाइना में होने वाले बदलावों में वेजाइनल स्ट्रेचिंग काफी सामान्य है। कोई महिला कितना स्ट्रेच अनुभव करती है, यह कई चीजों पर निर्भर करता है जैसे बच्चे का आकार, गर्भावस्था के दौरान पेल्विक एक्सरसाइज की या नहीं, बच्चों के जन्म की संख्या आदि।

रंग का बदलना
बच्चे के जन्म के बाद आपके वाल्वा आनि वेजाइना के बाहर के हिस्से के रंग में बदलाव हो सकता है। हालांकि आपको इसके बारे में चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है।

रक्त का स्राव
बच्चे के जन्म के बाद कई सप्ताह तक आपको वेजाइना से डिसचार्ज होने की समस्या हो सकती है। इस डिसचार्ज में रक्त, म्यूकस, औल द्रव्य शामिल हो सकते हैं। सप्ताह और समय गुजरने के साथ इस डिसचार्ज का रंग और अपीयरेंस बदल सकता है। [ये भी पढ़ें: तरीके जो महिलाओं को जवां दिखने में मदद करते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "