त्वचा संबंधी समस्याएं जो यौन संबंधों के जरिए हो सकती हैं

Read in English
skin conditions you can get after sex
यौन संबंधों के दौरान आपके शरीर में कई बदलाव आते हैं। जब आप इंटिमेट होते हैं तो आपके शरीर में कई तरह के हार्मोन रिलीज होते हैं जो कई तरह के बदलावों के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये बदलाव अच्छे और बुरे, दोनों तरह के हो सकते हैं। इन बदलावों का सामना आपकी त्वचा भी करती हैं। बहुत से लोगों को पता नहीं होता है कि यौन संबंधों के जरिए आपको कई तरह की त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। अगर आप ध्यान देंगे तो यौन संबंध बनाने के बाद आपकी त्वचा बदलने लगती है। इनमें से कुछ समस्याएं सामान्य होती है और कुछ दिन में ठीक हो जाती हैं लेकिन कुछ समस्याएं गंभीर हो सकती हैं। इनमें कुछ यौन संचारित रोग भी शामिल हैं जो आपकी त्वचा को प्रभावित करते हैं। अगर आप इनके बारे में जानती हैं तो आप इनसे बच सकती हैं। आइए जानते हैं कौन सी त्वचा संबंधी समस्याएं हैं, जो यौन संबंधों के जरिए हो सकती हैं। [ये भी पढ़ें: उम्र के साथ वेजाइना में क्या बदलाव आते हैं]
लेटेक्स और ल्यूब एलर्जी
अगर यौन संबंध बानने के बाद आपकी वेजाइना में खुजली हो रही है और यौन संबंधों के दौरान आपके पार्टनर ने लेटेक्स कंडोम का इस्तेमाल किया है तो आपको लेटेक्स एलर्जी हो सकती है। इससे बचने के लिए गर्भनिरोध का कोई और तरीका इस्तेमाल करें। अगर आप ल्यूब्रिकेंट्स से भी इसी तरह की परेशानी महसूस कर रही हैं तो केमिकल फ्री और ऑर्गेनिक ल्यूब्स का इस्तेमाल करें।
यीस्ट इंफेक्शन
अगर आपके पार्टनर को किसी तरह का स्किन संक्रमण है तो आपको यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है। यह यौन संचारित रोग नहीं है लेकिन यौन संबंधों के दौरान त्वचा में बदलाव के कारण यह हो सकता है। इसके दौरान आपको वेजाइना में खुजली और डिसचार्ज होता है। [ये भी पढ़ें: वेजाइनल ड्राईनेस के पीछे क्या कारण हो सकते हैं]
मुंहासे
हालांकि यौन संबंध बनाने से आपके चेहरे की रंगत में निखार होता है लेकिन इसके कारण आपको मुंहासे जैसी  कई समस्याएं हो सकती हैं। यौन संबंधों के दौरान चेहरे पर पसीना, त्वचा का तेल, मेकअप, बैक्टीरिया और अन्य गंदगी आदि मिलकर मुंहासों का कारण बनती हैं।
हर्पीस
skin conditions you can get after sexहर्पीस एक यौन संचारित रोग है जो कि यौन संबंधों के दौरान फैल सकता है। इसके दौरान आपके यौन अंगों या ओरल हिस्सों में हर्पीस हो जाते हैं। इसके अलावा ये शरीर के अन्य हिस्सों में भी हो सकते हैं। इससे बचने के लिए सुरक्षित यौन संबंध बनाएं।
जेनाइटल वार्ट्स
यह स्किन कंडीशन ह्यूमन पैपिलोमा वायरस के कारण होती है। इस दौरान जनानांगों की त्वचा पर घाव हो जाते हैं। प्यूबिक हेयर शेव करने के बाद अधिक स्किन-टू-स्किन संपर्क होने के कारण जेनाइटल हर्पीस होने की संभानाएं अधिक होती हैं। [ये भी पढ़ें: यीस्ट इंफेक्शन से जुड़े मिथक जिनसे महिलाएं हैं अनजान]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "