महिलाओं में होने वाले यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन को ठीक करने के लिए उपचार

Read in English
remedies for urinary tract infection

ज्यादातर महिलाएं यूरिनरी ट्रैक्ट इंपेक्शन से ग्रसित होती हैं। यह यूरिनरी ट्रैक्ट के साथ किडनी, ब्लैडर को भी प्रभावित करता है। फंगस और वायरस की वजह से यह इंफेक्शन होता है। जिसकी वजह से पेशाब करते समय जलन होना, पेल्विक दर्द जैसे कई लक्षण महसूस होते हैं। महिलाओं को बहुत जल्दी यह इंफेक्शन होता है। महिलाओ में यूरेथ्रा का साइज पुरुषों की तुलना में कम होने की वजह से उन्हें यह समस्या बहुत जल्दी होती है। जिसकी वजह से बैक्टीरिया ब्लैडर तक जल्दी पहुंच जाते हैं। इसका इलाज करने के लिए एंटीबायोटिक ली जाती हैं। डॉक्टर से परामर्श लेने के साथ आप घर पर भी कुछ तरीके अपनाकर इसे दूर कर सकते हैं। तो आइए आपको इन तरीकों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: वेजाइना को स्वस्थ रखने के लिए अपनाएं नियम]

ज्यादा पानी पिएं: पानी शरीर से विषाक्त पदार्थ निकालने में मदद करता है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के बैक्टीरिया यूरिनरी ट्रैक्ट में होते हैं। जब आप ज्यादा पानी पीते हैं तो पेशाब के माध्यम से बैक्टीरिया शरीर से बाहन निकलने लगते हैं। पानी पीने की मात्रा बढ़ा देने से यूटीआई से रोकथाम की जा सकती है।

विटामिन सी का सेवन करें: विटामिन सी से भरपूर फूड का सेवन करने से यूरिन एसिडिक बनता है। जिसकी वजह से यूरिनरी ट्रैक्ट में बैक्टीरिया की ग्रोथ बाधित होती है। यूरिनरी इंफेक्शन से ग्रसित होने पर विटामिन सी का सेवन बढ़ा दें। [ये भी पढ़ें: प्यूबिक एरिया में साबुन का इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए]

स्वस्थ आदतें अपनाएं: लाइफस्टाइल में थोड़े बहुत बदलाव करके भी यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से रोकथाम की जा सकती है। इसके लिए आप धूम्रपान करना छोड़ दें, ढीले अंडरगार्मेंट पहनें, हाइजीन प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें। उन्हीं प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें जिसमें सुंगध आती हो।

जलन करने वाले फूड का सेवन ना करें: जब आप यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से ग्रसित हो तों कैफीन, एल्कोहल, मसालेदार भोजन, कार्बोनेटिड ड्रिंक का सेवन करना बंद कर दें। इन चीजों के सेवन से ब्लैडर में जलन हो सकती है। इस दौरान उन फूड्स का सेवन करें जिन्हें खाने से जलन ना हो। आप हाई-फाइबर कार्बोहाइड्रेट का सेवन कर सकती हैं। यह पाचन के लिए अच्छे होते हैं।

पेशाब ना रोके: यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से ग्रसित होने पर आपको बार-बार पेशाब आने जैसा महसूस होता है। आपको ऐसा कई बार लगता है, इस दौरान पेशाब रोके नहीं। जब भी आपको ऐसा महसूस हो तो पेशाब करने चले जाएं। शरीर इस प्रक्रिया के माध्यम से बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: प्री-इजैकुलेशन से जुड़ी बातें जो महिलाओं को पता होनी चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "