मेनोपॉज में बढ़ जाता है दिल की बीमारी का खतरा जानें कैसे

Read in English
menopause-rises-risk-of-heart-disease

उम्र बढ़ने से साथ-साथ महिलाओं के शरीर में होने वाले परिवर्तन में मेनोपॉज एक है। मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को पीरीयड्स आने बंद हो जाते हैं। यह आमतौर पर 40 साल की उम्र के बाद होता है। मेनोपॉज के दौरान महिलाएं कई तरह की शारीरिक और मानसिक परेशानियों से गुजरती है। इस समय में तनाव, डिप्रेशन और इंसोम्निया जैसी गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मेनोपॉज की समस्या महिलाओं में दिल की बीमारी का कारण भी बन सकती है। आइए जानते हैं मेनोपॉज के दौरान होने वाले ऐसे कुछ परिवर्तनों के बारे में जो महिलाओं में दिल की बीमारी का खतरा बढ़ा देते हैं।[ये भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग हो रही है तो कैसे करें उपचार]

1.हाई-ब्लड प्रेशर: एस्ट्रोजन का स्तर मेनोपॉज के दौरान गिर जाता है, जिससे हृदय की धमनियां सख्त हो जाती है और इस बदलाव के कारण ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर दिल के लिए खतरा बन सकता है।

2.डायबिटीज: मेनोपॉज की प्रक्रिया शरीर में इंसुलिन की मात्रा को कम कर देती है। इंसुलिन एक ऐसा हार्मोन है जो शुगर से प्राप्त ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलता है और रक्त में ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखता है। इसलिए इंसुलिन की कमी के कारण रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ने लगती है जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। डायबिटिज हृदय संबंधी बीमारियों की संभावना को काफी बढ़ा देता है।[ये भी पढ़ें: पीरियड्स ब्लीडिंग और स्पॉटिंग है अलग, कैसे जाने फर्क]

3.कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना: मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर कम हो जाता है जिससे रक्त में कोलेस्ट्रॉल और फैट्स बढ़ जाते हैं। इस स्थिति में शरीर के लिए हानिकारक कैलेस्ट्रोल में बढ़ोतरी होने से दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

4. वजन बढ़ना: एस्ट्रोजन फैट को एकत्र करके उसे खर्च करता है लेकिन मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर कम होने के कारण महिलाओं में फैट बर्न करने की क्षमता भी कम हो जाती है और वजन बढ़ जाता है। मोटापा आपके दिल के लिए खतरनाक हो सकता है। [ ये भी पढ़ें: कुछ वेजाइनल कंडीशन जिनके बारे में महिलाओं को होनी चाहिए जानकारी]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "