योनि से आने वाली दुर्गंध को कैसे दूर करें

Read in English
how-to-get-rid-of-vaginal-odour

Picture credit: meggyogyulnek.blog.hu

योनि की दुर्गंध(वेजाइनल ओडर) की समस्या लगभग हर महिला को होती है। अनियमित पीरियड्स, सही आहार का सेवन ना करना या फिर बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण महिलाएं इस समस्या से ग्रसित होती हैं। इसके अलावा शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण पसीना होने लगता है जिसकी वजह से भी बदबू की समस्या हो जाती है। इस दुर्गंध की वजह से अक्सर महिलाओं को शर्मिंदगी महसूस होती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए डॉक्टर के पास जाना जरूरी नहीं होता है बल्कि अपनी दैनिक दिनचर्या में कुछ बदलाव लाकर भी इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। आइए जानते हैं योनी से आने वाली दुर्गंध को कैसे दूर किया जा सकता है।[ये भी पढ़ें: क्या पीरियड्स ब्लड में रक्त के थक्के आना नार्मल है?]

हाइजिन सही करें: वेजाइनल ओडर की समस्या को ठीक करने के लिए अपने हाइजिन में सुधार लाना आवश्यक होता है। अपने शरीर को साफ रखने से इस समस्या को कम किया जा सकता है। इसके अलावा रोजाना नहाएं और अपने अंडरवियर को चेंज करें। वेजाइना को साफ करने के लिए साबून का उपयोग ना करें और अंडरगार्मेंट्स को सेंटेड प्रोडक्ट से ना धोएं।

पोषक आहार का सेवन करें:
स्वस्थ और एक संतुलित आहार स्वस्थ रहने के लिए महत्वपूर्ण होता है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीना भी आवश्यक होता है क्योंकि यह शरीर को डिटॉक्स करता है और पसीने से आने वाली बदबू को कम करता है। अपने आहार में तरबूज, सेब और अजवाइन जैसे खाद्य पदार्थों को शामिल करने से भी इस समस्या से निजात मिल सकता है। [ये भी पढ़ें: सेन्टेड टैम्पोन्स और पैड्स के इस्तेमाल से पहले जान लें इनके नुकसान]

कपड़ों को ध्यान रखें: बहुत सख्त कपड़े पहनने से नमी और बैक्टीरिया बहुत आसानी से बढ़ने लगते हैं। इसके अलावा, साटन और रेशम का कपड़ा पहनना अच्छा होता है और कॉटन सबसे अच्छा विकल्प होता है क्योंकि यह नमी बनाएं रखने में मदद करता है।

सेब का सिरका:
सेब के सिरके में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं जो बदबू को बढ़ाने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करते हैं। रोजाना 1-2 चम्मच सेब के सिरके को पानी के साथ मिलाकर पीना फायदेमंद होता है।

एसेंशियल ऑयल: एसेंशियल ऑयल में अरोमा कंपाउंड होता है जो योनि में होने वाली दुर्गंध(वेजाइनल ओडर) की समस्या को कम करता है। एसेंशियल ऑयल की तरह ही टी-ट्री ऑयल में भी एंटी-माइक्रोबियल गुण होता है जो बैक्टीरिया को कम करने में मदद करता है। एसेंशियल ऑयल को प्रभावित जगह पर 3-5 दिन तक रोजाना लगाने से यह समस्या कम हो जाती है।

आंवला:
आंवला में विटामिन और मिनरल होता है। यह एक नेचुरल बल्ड प्यूरिफायर की तरह काम करता है। कच्चा आंवला या फिर आंवला के जूस को रोजाना पीने से यह समस्या दूर हो जाती है। [ये भी पढ़ें: संकेत जो महिलाओं में आयरन की कमी की ओर करते हैं इशारा]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "