Sanitary pads: दिन में कितनी बार पैड बदलना चाहिए

Read in English
often you should change pads a day

Change a Sanitary pad: सही समय पर पैड बदलना जरुरी होता है।

पीरियड्स के दौरान हर महिला अपनी सुविधा अनुसार पैड का इस्तेमाल करती हैं। अपने शरीर के महत्वपूर्ण अंगों का खास ध्यान रखने की जरुरत होती है। महिलाओं को खासकर पीरियड्स के दौरान। पीरियड्स का समय हर महिलाओं का अलग होता है। कुछ महिलाओं को 3-4 दिन तक पीरियड्स होते हैं तो कुछ को 7-8 दिन तक। पीरियड्स के समय के अनुसार ब्लीडिंग का फ्लो भी अलग होता है। कहा जाता है कि हर महीने पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर से 40 मिलीलीटर रक्त बाहर निकलता है। जिसके अनुसार ही महिलाएं पैड्स का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन एक पैड को ही ज्यादा समय तक लगाए रखना ठीक नहीं होता है। इसमे मौजूद केमिकल वेजाइना को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए सही समय पर इसे बदलते रहना चाहिए। तो आइए आपको बताते हैं कि पीरियड्स के दौरान कितनी बार पैड बदलें। [ये भी पढ़ें: पैड के कारण होने वाले रैशेज से कैसे निजात पाएं]

Sanitary pads: पीरियड्स के दौरान एक दिन में कितनी बार पैड बदलें

दिन में कितनी बार पैड बदलें
किस तरह के पैड का इस्तेमाल करें
पीरियड्स के दौरान हाइजीन क्यों जरुरी है

दिन में कितनी बार पैड बदलें
पीरियड्स के दौरान पैड बदलना ब्लड के फ्लो पर निर्भर करता है। पीरियड्स के शुरु के 2-3 दिन हैवी फ्लो होता है जिसके अनुसार पैड बदलते रहना चाहिए।
पीरियड्स के दौरान सामान्य फ्लो होने पर महिलाओं को हर 4 घंटे में पैड बदलना चाहिए। इस बात का ध्यान हमेशा रखना चाहिए कि अगर आपका पैड साफ और शुष्क होता है तो मैन्स्ट्रुअल ब्लड पैड में लॉक हो जाता है। अगर आपको लगता है कि ब्लड से इंफेक्शन नहीं होता है तो यह गलत धारणा है क्योंकि माइक्रो-ऑर्गनिस्म एकत्रित होने लगते हैं। अगर आपको हैवी फ्लो होता है तो दो घंटे में एक बार पैड बदल लें।

किस तरह के पैड का इस्तेमाल करें:

how often change your pad
Sanitary pad: सही तरह के पैड का ही इस्तेमाल करें।

बाजार में कई तरह के पैड आते हैं। जिसका आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं। महिलाओं को कॉटन वाले पैड का इस्तेमाल करना चाहिए और खुशबू वाले पैड का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

पीरियड्स के दौरान हाइजीन क्यों जरुरी है
पीरियड्स के दौरान फ्लो कम हो या ज्यादा आपको थोड़े समय प्यूबिक एरिया को साफ करते रहना चाहिए। माइल्ड साबुन का इस्तेमाल करके प्यूबिक एरिया को साफ करना चाहिए इससे रैशेज नहीं होते हैं। लंबे समय तक एक ही पैड का इस्तेमाल करने से वेजाइनल इंफेक्शन, स्किन इंफेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है।

[जरुर पढ़ें: हर्ब्स जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत दिलाते हैं]

पीरियड्स के दौरान एक दिन में कितनी बारी पैड बदलना चाहुए यह जरुरी होता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "