धूम्रपान करने से पड़ते हैं महिलाओं के स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव

harmful effects of smoking for women

Photo credit: monthlygift.com

धूम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है यह तो सभी को पता होता है। लेकिन इसके बाद भी कई महिलाएं धूम्रपान करती हैं। धूम्रपान महिलाओं को कई तरीके से प्रभावित कर सकता है। धूम्रपान करने से फेफड़े, हृदय संबंधित बीमारी के साथ महिलाओं को इससे आर भी कई समस्याएं हो सकती हैं। यह महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। सिगरेट में मौजूद तंबाकू शरीर में रक्त प्रवाह को कम करने और ऑक्सीजन के अवशोषण को कम करता है। क्या आपको पता है यह महिलाओं के स्वास्थ्य पर किस तरह से नकारात्मक प्रभाव डालता है। अगर नहीं तो आइए आपको धूम्रपान से होने वाले नकारात्मक प्रभावों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: निप्पल्स से असामान्य रुप से डिसचार्ज होने के कारण]

गर्भधारण करने में समस्या: जब आप धूम्रपान करती हैं तो आपका शरीर 7000 केमिकल के संपर्क में आता है। इन केमिकल्स का आपकी फर्टिलिटी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जिसकी वजह से गर्भधारण करने में परेशानी हो सकती है। जो आपके प्रजनन अंगों को प्रभावित करते हैं।

मेनोपॉज जल्दी होना: एक अध्ययन के अनुसार जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं उनके मेनोपॉज जल्दी हो जाते हैं। मेनोपॉज जल्दी होने के संकेतों में हॉट फ्लैश, पसीना और नींद की समस्या होना होते हैं। धूम्रपान छोड़ने पर ही आप इसके खतरे को कम किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: सवाल जो स्तनपान कराने वाली महिलाओं को करते हैं परेशान]

हड्डियों के घनत्व को कम करता है: जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं साथ ही मेनोपॉज से गुजर रही होती हैं उनकी हड्डियों का घनत्व कम होने लगता है। इससे उनके कूल्हों की हड्डी टूटने की संभावना बढ़ जाती है।

फर्टिलिटी को कम करता है: जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं उन्हें गर्भधारण करने में दिक्कत होती हैं और अगर आप गर्भधारण कर चुकी हैं तो उस दौरान गर्भपात होने का खतरा बढ़ जाता है। धूम्रपान की वजह से एक्टोपिया प्रेग्नेंसी का खतरा बढ़ जाता है। एक्टोपिया प्रेग्नेंसी में अंडा निषेचित होने के बाद गर्भाशय के बाहर बढ़ने लगता है जो कि फैलोपियन ट्यूब में बढ़ना चाहिए। इसके बाद भ्रूण को सर्जरी की मदद से हटाना पड़ता है। धूम्रपान होने वाले बच्चे के लिए भी हानिकारक होता है।

मेंस्ट्रुअल साइकल: जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं और जो नहीं करती हैं उनके मेंस्ट्रुअल साइकल में अंतर होता है। एक स्टडी के मुताबिक धूम्रपान करने की वजह से मेंस्ट्रुअल साइकल में अनियमिता होने लगती है। जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं उनकी मेंस्ट्रुअल साइकल बाकियों की तुलना में छोटी होती है। [ये भी पढ़ें: प्यूबिक हेयर से जुड़े मिथक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "