रोजाना की आदतें जो महिलाओं के लिए हो सकती हैं हानिकारक

Read in English
harmful-daily-habits-every-women-should-avoid

हर व्यक्ति के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज उसका स्वास्थ्य होता है, इसलिए हर किसी को अपने जीवन में स्वस्थ आदते अपनानी चाहिए। फिट और हेल्दी रहने के लिए महिलाओं और पुरुषों को जहां कुछ अच्छी आदतें अपनाने की जरुरत होती है वहीं कुछ बुरी आदतों से बचना भी जरुरी होता है। लेकिन महिलाओं में हार्मोन्स परिवर्तन पुरुषों की तुलना में अधिक होता है, इसलिए उन्हें स्वस्थ रहने के लिए अधिक देखभाल और संरक्षण की आवश्यकता होती है। कई बार लापरवाही या जानकारी के आभाव में आप बुरी और हानिकारक आदतों को दोहराती रहते हैं। आइए जानते हैं उन कुछ आदतों के बारे में जो महिलाओं के शरीर के लिए हानिकारक होती हैं। [ये भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान एक्सरसाइज करने से क्या प्रभाव पड़ते हैं]

1.एक ही सेनेटरी पैड का दिनभर इस्तेमाल करना: पीरियड्स के दौरान पूरे दिन एक ही सेनेटरी पैड का इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं। इससे इंफेक्शन होने के साथ-साथ खुजली और जलन होने का खतरा भी पैदा हो जाता है। इसलिए आपको दिन में 3-4 बार सेनेटरी पैड बदलना चाहिए जिससे संक्रमण का की संभावनाएं कम हो।

2. अंडरगारमेंट्स को रोजाना ना धोना: अगर आप अंडरगारमेंट्स रोजाना धोने से बचती हैं तो यह आपके लिए बेहद हानिकारक हो सकता है। ये आपके शरीर से सीधे संपर्क में होते हैं इसलिए इनका बैक्टीरिया मुक्त होना आवश्यक होता है। इन्हें रोजाना ना धोने से इनमें पसीने के कारण पैदा बैक्टीरिया आपकी त्वचा में जलन और इंफेक्शन पैदा कर सकते हैं। इसलिए इन्हें रोजाना धोने की आदत डालें। [ये भी पढ़ें: ब्रेस्ट पेन होने के क्या कारण हो सकते हैं]

3.गुप्तांगों को धोने के लिए साबुन का इस्तेमाल करना: साबुन में मौजूद केमिकल्स आपकी त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं। ये केमिकल्स गुप्तांगों की त्वचा के pH संतुलन को बिगाड़ सकते हैं। साथ ही ये त्वचा पर मौजूद अच्छे बैक्टीरिया को खत्म कर देते हैं और इससे खुजली और त्वचा के रुखेपन जैसी समस्या भी पैदा हो जाती है। इसलिए साबुन से गुप्तांगों को ना धोएं।

4.त्वचा पर सीधे डियोड्रेंट का इस्तेमाल करना: त्वचा पर सीधे डियोड्रेंट का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा काली पड़ सकती है और साथ ही इससे स्वास्थ्य को भी काफी नुकसान पहुंचता है। डियोड्रेंट में हानिकारक केमिकल्स मौजूद होते हैं जो सीधे इस्तेमाल करने पर ब्लडस्ट्रीम में पहुंचकर शरीर को हानि पहुंचाते है। इसलिए डियोड्रेंट के सीधे इस्तेमाल से बचें।

5.सूर्य की किरणों से सीधा संपर्क: सूर्य की किरणों से विटामिन D मिलता है जो शरीर के लिए लाभकारी होता है। लेकिन फिर भी सूर्य की किरणों के संपर्क में लंबे समय तक रहने से हानिकारक यूवी किरणें आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकती हैं। इसलिए कभी भी बिना स्कार्फ या किसी सुरक्षा कवच या सनस्क्रीन के सीधे धूप में ना जाएं। [ये भी पढ़ें: मैनोपॉज से जुड़ी कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "