पीरियड्स ब्लीडिंग और स्पॉटिंग है अलग, कैसे जाने फर्क

do you know the difference between period bleeding and spotting

Pic Credit: yomesports.com

योनि से हर तरह का खून का स्राव मासिक चक्र के कारण नहीं होता है। अगर आप मासिक चक्र का समय ना होने के बाद भी योनि से खून का स्राव या स्पॉटिंग का अनुभव कर रही हैं तो इसके बारे में आपको जानकारी होना जरुरी है। स्पॉटिंग के बारे में महिलाएं अक्सर कम ही बातें करती है लेकिन क्या आप जानती है कि इसे अनदेखा कर देना भी उचित नहीं है। स्पॉटिंग कई सामान्य कारणों जैसे तनाव या गर्भनिरोध या फिर कई गंभीर कराण जैसे इंफेक्शन, पॉलीप्स, फिबरोइड्स या गर्भावस्था के कारण हो सकती हैं। हालांकि आप कुछ तरीकों से मासिक धर्म के दौरान होने वाली ब्लीडिंग और स्पॉटिंग में फर्क कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि पीरियड ब्लीडिंग और स्पॉटिंग में फर्क कैसे जानें। [ये भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग हो रही है तो कैसे करें उपचार]

ब्लीडिंग की मात्रा: यह एक सामान्य तरीका हैं जिसके जरिए आप स्पॉटिंग और ब्लीडिंग में फर्क जान सकते हैं। हल्की ब्लीडिंग को स्पॉटिंग माना जा सकता है। यह निर्भर करता है कि रक्त का स्राव कितने दिन के लिए और कितनी मात्रा में हो रहा है। जबकि पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग अक्सर एक सप्ताह तक होती है और लगातार होती है। लेकिन स्पॉटिंग के दौरान ब्लीडिंग लगातार नहीं होती है।

बर्थ कंट्रोल का उपयोग: कभी कभी किसी नई बर्थ कंट्रोल तकनीक का इस्तेमाल के कारण भी आप स्पॉटिंग का अनुभव कर सकती हैं। खासतौर पर शुरुआत के समय में। आईयूडी और इंप्लान्ट दोनों तरह के बर्थ कंट्रोल के कारण स्पॉटिंग हो सकती है। इसके अलावा अगर आप पीरियड्स को रोकने के लिए हर महीने बर्थ कंट्रोल पिल्स ले रही हैं तो इसके कारण भी हल्की स्पॉटिंग हो सकती है। [ये भी पढ़ें: प्राकृतिक तरीकों से मासिक धर्म को टालने के उपाय]

ब्लीडिंग का समय: अगर आपका मासिक चक्र नियमित रहता है और आप महिना के उस समय के अलावा किसी और समय में ब्लीडिंग का अनुभव कर रही हैं तो यह स्पॉटिंग हो सकती है नाकि अनियमित पीरियड्स।
स्पॉटिंग अस्थिर होती है जो कि मासकि धर्म के समय से अलग समय में आप अनुभव करती हैं।

विशेषज्ञ से मिलें: अगर आप प्री-मैनोपोजल अवधि में है और आप पहली बार स्पॉटिंग का अनुभव कर रहे हैं तो यह सामान्य हो सकती हैं लेकिन फिर भी स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलना उचित होगा। परंतु अगर आप पोस्ट-मैनोपोजल अवधि में हैं तो स्पॉटिंग होना सामान्य नहीं है। इसलिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। [ये भी पढ़ें: दिमाग के स्वास्थ्य के लिए महिलाएं ना करें इन खाद्य पदार्थों का सेवन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "