पीरियड्स के पहले और बाद में वजन बढ़ने के पीछे होते हैं यह कारण

Read in English
causes of weight gain before and after periods

photo credit: marcellepick.com

कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने की समस्या होने लगती है। जिसके बारे में सोचकर वह परेशान होने लगती हैं। लेकिन परेशान होने की जरुरत नहीं है पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने की समस्या आम है और यह कुछ समय के लिए होता है। इस समस्या से कुछ आसान उपायों की मदद से छुटकारा पाया जा सकता है। पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने के साथ, तनाव, चिंता, पेट में दर्द, कमर दर्द, पेट में खिंचाव जैसी समस्या होने लगती हैं। जो थोड़े समय में ठीक हो जाते हैं। पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने के पीछे कई कारण होते हैं। तो आइए आपको इन कारणों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: मेनोपॉज में बढ़ जाता है दिल की बीमारी का खतरा जानें कैसे]

पीरियड्स के दौरान कितना वजन बढ़ना सामान्य है: पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ना हर महिला पर निर्भर करता है। इस दौरान 3-4 किलो वजन बढ़ना सामान्य होता है। मासिक धर्म के पांच चरण होते हैं जिनमें से 3 चरण में वजन बढ़ता है। जैसे पीरियड्स से पहले और बाद में।

वजन बढ़ने के कारण:

मैग्नीशियम का लेवल कम हो जाना: पीरियड्स के शुरुआती दिन से ही शरीर में मैग्नीशियम की मात्रा कम होने लगती है। जिसकी वजह से शरीर में इन्सुलिन की मात्रा कम होने लगती हैं। इसके विपरीत ग्लूकोज का सेवन करने की इच्छा बढ़ जाती है। जिसकी वजह से आपको मीठा खाने इच्छा बढ़ने लगती है जिसकी वजह से वजन बढ़ने लगता है। [ये भी पढ़ें: गर्भाशय को स्वस्थ रखने के लिए करें इन फूड्स का सेवन]

वॉटर रिटेंशन: पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने का सामान्य कारण वॉटर रिटेंशन है। हमारे शरीर में कई स्त्रोत की मदद से पानी अवशोषित होता है। जो पीरियड्स के दौरान ऊतकों के माध्यम से बाहर निकल जाते हैं। इस अवस्था को एडीमा भी कहते हैं। पीरियड्स के दौरान हार्मोन असंतुलित होने की वजह से शरीर से पानी की कमी होने लगती है। इस दौरान पेट फूलने की समस्या महसूस होना स्वाभाविक है। बॉउल मूवमेंट में बदलाव होने पर भी शरीर से पानी की कमी होने लगती है। लेकिन पीरियड्स के दौरान प्रोजेस्टेरोन का लेवल कम होने की वजह से महिलाओं के शरीर में पानी की कमी होती है।

फूड क्रेविंग:
causes of weight gain before and after periods शरीर से पानी की कमी होने से खाने की इच्छा बढ़ने लगती है। जिसकी वजह से महिलाएं ज्यादा मात्रा में भोजन का सेवन करने लगती हैं और पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने लगता है। पीरियड्स के दौरान मेटाबॉलिक लेवल बढ़ जाती है भोजन के सेवन में भी बढ़ोत्तरी होने लगती है। दिमाग को ऐसे संकेत मिलते हैं कि शरीर में ग्लूकोज की कमी है जिसकी वजह से महिलाएं ज्यादा खाने लगती हैं। [ये भी पढ़ें: ब्रेस्ट के नीचे पड़ने वाले रैशेज को कुछ उपायों की मदद से करें दूर]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "