पीरियड्स के दौरान ब्रेस्ट में होने वाले दर्द के कारण और इलाज

Read in English
causes and treatment of breast pain during periods

पीरियड्स एक नेचुरल साइकल है जो हर महीने महिलाओं को होते हैं। हर महीने पीरियड्स आना महत्वपूर्ण होता है लेकिन पीरियड्स के इन दिनों महिलाओं को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को पेट में दर्द, खिंचाव, मूड स्विंग और ब्रेस्ट पेन की समस्या होती है। ऐसा पीरियड्स के दौरान 4-5 दिन तक होता है। ब्रेस्ट में भारीपन महसूस होना पीरियड्स के संकेत होते हैं। पीरियड्स के दौरान ब्रेस्ट में होने वाले दर्द को फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट कंडीशन या एफबीसी कहते हैं। बहुत सी महिलाएं इस कंडीशन के बारे में नहीं जानती हैं और ब्रेस्ट में होने वाले दर्द पर ध्यान नहीं देती हैं। [ये भी पढ़ें: महिलाओं के लिए कितना वेजाइनल डिसचार्ज सामान्य होता है]

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द का कारण: पीरियड्स के दौरान हर महीने महिलाओं को ब्रेस्ट में दर्द होना आम लक्षण है। यह पीरियड्स के दौरान असहज महसूस करने की वजह से होता है। क्योंकि रोजाना के रुटीन में महिलाओं को ऐसा महसूस नहीं होता है। इन दिनों लगातार भारी महसूस करने की वजह से यह दर्द ज्यादा महसूस होता है।
महिलाओं के शरीर में हार्मोनल बदलाव होते रहते हैं खासकर तब जब आप गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कर रही हों। उस दौरान आपको ब्रेस्ट में दर्द ज्यादा होता है। मैन्स्ट्रुअल साइकल का समय पास आने की वजह से शरीर में केमिकल बदलाव होने लगते हैं जिससे हार्मोन्स असंतुलित हो जाते हैं। यह असंतुलन की वजह से ब्रेस्ट में दर्द, पेट में दर्द, पैरों में दर्द होने लगता है। [ये भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान टैम्पोन्स, पैड्स और मेंस्ट्रुअल कप में से किसका इस्तेमाल है बेहतर]

ब्रेस्ट में दर्द से इलाज: पीरियड्स के दौरान होने वाले ब्रेस्ट पेन के लिए कोई विशिष्ट इलाज नहीं है। यह एक नेचुरल साइकल है जो कई दवाइयां लेने के बाद भी होती है। कुछ दवाइयों का सेवन करके इस दर्द से थोड़ी देर के लिए आराम पाया जा सकता है। इस दर्द को दूर करने के लिए कुछ महिलाएं ढीली ब्रा पहनती हैं तो कुछ ढीली टी-शर्ट पहनने लगती हैं ताकि दर्द से आराम पाया जा सके, तो कुछ महिलाएं अपने खाने में आयोडीन की मात्रा को बढ़ा देती हैं।

अगर आपको पीरियड्स के दौरान निप्पल्स से डिसचार्ज होता है तो यह एक गंभीर समस्या के संकेत हो सकते हैं। इसके लिए डॉक्टर से परामर्श करना जरुरी होता है। [ये भी पढ़ें: मेंस्ट्रुुअल साइकल आपके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताती है]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "