आंखों की देखभाल के लिए इन बातों का ध्यान रखना है जरूरी

you must know these important truths related to eye care

आंंखों को देखभाल करना बेहद जरूरी होता है। आंखें बहुत नाजुक और संवेदनशील होते हैं इस वजह से आपको कुछ खास रूप से उसकी देखभाल करने की जरूरत होती है। कई बार आंखों में धूल-मिट्टी जाने की वजह से इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है या फिर और भी ऐसे कई कारण होते हैं जिनकी वजह से इंफेक्शन बढ़ सकता है और आंखें डैमेज हो सकती है। कई बार एक ही चीज को लगातार देखने की वजह से भी आंखों की रोशनी कम हो सकती है।हर 20-30 मिनट के अंतराल पर अपनी आंखों को कुछ देर के लिए बंद करें, ऐसा करने से आंखों में नमी बनी रहती हैं और शुष्की से होने वाली खुजली भीं नहीं होती। आइए जानते हैं आंखों की देखभाल से जुड़े कौन से सच आपके लिए जानना जरूरी होता है जिससे आप आंखों को डैमेज होने से बचा सकते हैं। [ये भी पढ़ें: जानिए पानी के अलग-अलग प्रकार और कितना स्वस्थ हैं इनका इस्तेमाल]

चश्मा रोशनी को कमजोर नहीं करता है:
you must know these important truths related to eye careहर वर्ष आपके चश्में बदलते हैं तो इसका मतलब ये नहीं है कि इसके कारण आपकी आंखों की रोशनी कमजोर हो रही है। चश्मा केवल आप को बेहतर देखने में मदद करता है। या परिवर्तन आपकी उम्र बढ़ने के कारण होते हैं।

मेक-अप आपकी आंखों को खराब कर सकती है:
you must know these important truths related to eye careजब आप आंखों पर काजल लगाते हैं या आइलैश लगाते हैं तो आपको ध्यान देने की जरूरत है। ध्यान रहे की वो आपकी आंखों के अंदर ना जाएं। अगर आई मेकअप करते वक्त आंखों के अंदर काजल या आईशैडो चला जाता है तो उनके होने वाले केमिकल आपकी आंखों को डैमेज कर सकता है। इसके लिए आप घरेलू उपचारों के साथ एंटीबायोटिक ड्रॉप्स भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह आपके रोशनी और आंखों को बेहतर रखने में भी सहायता करेंगे। [ये भी पढ़ें: डेयरी प्रोडक्ट का सेवन बंद करने के बाद होते हैं कई बदलाव]

धूम्रपान आपकी दृष्टि को नुकसान पहुंचाता है: धूम्रपान करने से मस्कुलर डिजेनेरेशन का खतरा बढ़ सकता है जिसके कारण आंखों की रोशनी कम हो सकती है। धूम्रपान के हानिकारक प्रभावों के कारण रेटिना और ऑप्टिक नर्व के कारण आंखों के छोटे रक्त वाहिकाओं को नुकसान हो सकता है। इसके अलावा आंखों के आंतरिक भागों को भी इस प्रकार की क्षति से नुकसान हो सकता है।

रांत में लेंस लगाकर सोने से परहेज करें:
रोत में लेंस लगाकर कभी भी नहीं सोना चाहिए। इससे आपके आंखों की रोशनी भी कम हो सकती है और साथ ही आपकी आंखों के स्वास्थ्य के लिए भी खतरा बढ़ा सकता है। रात-भर लेंस को डिसइंफेक्टेंट सॉल्यूशन में डालकर छोड़ दें और आंखों में लगाते वक्त अपने हाथों को अच्छी तरह धो लें। इसके अलावा लेंस को एक साफ डब्बे में रखें। [ये भी पढ़ें: रनिंग के बाद बेहतर परिणाम के लिए करें इन खाद्य पदार्थों का सेवन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "