गर्मियों में खुजली होने के पीछे क्या कारण होते हैं

Read in English
why you tend to get itchy during summer

गर्मी के मौसम में त्वचा पर खुजली और जलन होना एक आम समस्या होती है। इसकी वजह से लोग बहुत परेशान रहते हैं और उन्हें असहजता महसूस होती है। कई बार खुजली की वजह से दर्द होने लगती है और यह असहनीय हो जाता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए लोग क्रीम और प्राकृतिक तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। हर समय खुजली करने की वजह से लोगों की त्वचा पर लालीपन आ जाता है और साथ ही बम्प और ब्लिस्टर भी निकलने लगते हैं। लगातार एक ही जगह पर खुजली करने से उस हिस्से से खून भी निकलने लगता है। इस समस्या से बचने के लिए कोल्ड शावर, एंटी-इच प्रोडक्ट्स और मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा खुजली करने की वजह से त्वचा पर इंफेक्शन होने का खतरा भी बढ़ जाता है। आइए जानते हैं गर्मियों में खुजली होने के पीछे क्या कारण होते हैं। [ये भी पढ़ें: कमर के ऊपरी हिस्से में दर्द होने के क्या कारण हो सकते हैं]

हीट रैश:
स्वेट डक्ट बंद हो जाने की वजह से पसीना इवैपोरेट नहीं हो पाता है जिससे हीट रैश की समस्या होती है और यह आपकी खुजली और जलन की समस्या को बढ़ावा देता है। ऐसा ज्यादातर गर्मी के मौसम में होता है। इस समस्या को मॉइश्चराइजर की मदद से ठीक किया जा सकता है।

एयर कंडीशनिंग:
ठंडी हवा में लो ह्यूमिडिटी होती है जिसके कारण त्वचा रूखी हो जाती है और फिर आपको इसकी वजह से खुजली होने लगती है। यह आपकी त्वचा की नमी को भी कम कर देता है। इस समस्या को दूर करने के लिए आपको अधिक पेय पदार्थ पीने की आवश्यकता होती है।  [ये भी पढ़ें: शरीर से बदबू आने के कारण]

अधिक शावर लेने से:
अधिक शावर लेने की वजह से आपकी त्वचा के एसेंशियल और नेचुरल ऑयल खत्म हो जाते हैं और वजह से त्वचा रूखी हो जाती है और खुजली की समस्या होने लगती है। इससे बचने के लिए आप हल्का मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। अधिक सेंटेड बाथ प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से बचें।

डिहाईड्रेशन:
डिहाईड्रेशन की वजह से ना सिर्फ दस्त या कब्ज जैसी समस्या होती है बल्कि त्वचा भी रूखी और बेजान हो जाती है। इसके लिए आपको अधिक से अधिक पानी पीने की आवश्यकता होती है।

स्किन एलर्जी के कारण:
धूल-मिट्टी, गंदगी और पसीने के कारण स्किन एलर्जी की समस्या हो जाती है और यह खुजली और जलन को और अधिक उत्तेजित करता है। इसके अलावा इसकी वजह से त्वचा पर रैशेज भी होने लगते हैं।  [ये भी पढ़ें: हाथ धोने के लिए कितना समय लेना चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "