Plastic container: प्लास्टिक कंटेनर का इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए

Avoid Using plastic container: स्वस्थ रहने के लिए प्लास्टिक कंटेनर का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

प्लास्टिक से बनी चीजों का इस्तेमाल लोग अपनी रोजमर्रा की जरुरतों के लिए करते हैं। खाना जाम करके रखने, प्लास्टिक बैग से लेकर प्लास्टिक की बोतल सभी चीजों के लिए लोग प्लास्टिक का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा भी कई कामों के लिए प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है। प्लास्टिक प्राकृतिक उत्पादों जैसे कोयले, प्राकृतिक गैस, सेलूलोज़, नमक और कच्चे तेल से बना है जो उत्प्रेरक की उपस्थिति में बहुलककरण नामक प्रक्रिया से गुजरकर बनता है। इस प्रक्रिया के बाद पॉलीमर नामक कंपाउड बनता है जिसकी आगे प्रक्रिया करके प्लास्टिक बनती है। प्लास्टिक बनाते समय कई केमिकल्स का इस्तेमाल होता है जिसकी वजह से इसमें कई केमिकल एकत्रित हो जाते हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि प्लास्टिक कंटेनर का इस्तेमाल आपके लिए क्यों हानिकारक होता है। [ये भी पढ़ें: प्लास्टिक के कप में चाय या कॉफी पीने से होते हैं कई नुकसान]

Plastic container: प्लास्टिक कंटेनर के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान

हानिकारक कंपाउड भोजन में चले जाते हैं
फर्टिलिटी और प्रजनन समस्याएं
प्लास्टिक में मौजूद विषाक्त केमिकल आपको बीमार बनाता है
प्लास्टिक से आपका वजन बढ़ सकता है

हानिकारक कंपाउड भोजन में चले जाते हैं: प्लास्टिक के कंटेनर में भोजन रखकर माइक्रोवेव में गर्म करने से प्लास्टिक से हानिकारक कंपाउड रिलीज होने लगते हैं। जब प्लास्टिक शरीर में मौजूद एस्ट्रोजन हार्मोन के संपर्क में आती है तो इससे हार्ट डिजीज जैसी कई समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती है।

फर्टिलिटी और प्रजनन समस्याएं: प्लास्टिक को लचीला और मुलायम बनाने के लिए फिलेट नामक हानिकारक केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। यह फूड कंटेनर, ब्यूटी प्रोडक्ट, खिलौने, पेंट आदि में पाया जाता है। यह विषाक्त केमिकल आपकी इम्यूनिटी और नियंत्रित हार्मोन्स को प्रभावित करता है। यह दोनों चीजें आपकी फर्टिलिटी को प्रभावित करती हैं।

प्लास्टिक में मौजूद विषाक्त केमिकल आपको बीमार बनाता है: वैसे तो उम्र के अनुसार इंसान बीमार हो जाता है लेकिन ज्यादा विषाक्त केमिकल्स के संपर्क में आने से आपका शरीर बीमार हो जाता है। प्लास्टिक में कई केमिकल्स पाए जाते हैं जो आपके शरीर को बीमार बना देते हैं।

प्लास्टिक से आपका वजन बढ़ सकता है: प्लास्टिक में बिसफिनोल ए(बीपीए) पाया जाता है। यह कंपाउंड मनुष्य के शरीर में एस्ट्रोजन की तरह काम करता है। अगर इस कंपाउंड की नियमितता बाधित हो तो इससे शरीर का वजन बढ़ने लगता है। एक स्टडी के मुताबिक बीपीए के एक्सपोजर की वजह से वजन बढ़ने और ओबेसिटी की समस्या हो सकती है।

[जरुर पढ़ें: पानी पीने के लिए प्लास्टिक बोतल का इस्तेमाल गलत क्यों हैं, जानें इसके साइड इफेक्ट्स]

प्लास्टिक कंटेनर आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंचाते हैं। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "