जुराब पहनकर सोना क्यों जरुरी है

Read in English
why it is important to sleep with socks on

रात को सोते समय आपने महसूस किया होगा कि आधी रात के समय आपके पैर ठंडे हो गए हैं और नींद बीच में ही टूट जाती है। दरअसल जब आपके पैर ठंडे हो जाते हैं, तो शरीर में रक्त-प्रवाह प्रभावित हो जाता है और पैर सुन्न होने लगते हैं। क्योंकि कंबल की गर्माहट पैरों का ठंडापन दूर करने के लिए काफी नहीं होती है, लेकिन इससे बचने के लिए आप रात को जुराब पहनकर सो सकते हैं, जिससे आपको कई फायदे होते हैं साथ ही पूरी और गहरी नींद दिलाती है। तो आइये जानते हैं कि सोते समय जुराब पहनने से होने वाले फायदे।[ये भी पढ़ें: स्वीमिंग करते वक्त अपनी आंखों की सुरक्षा कैसे करें]

1.एडियां नहीं फटती:
why it is important to sleep with socks onरात को एड़ियां मॉइश्चराइज करके जुराब पहनकर सोने से नमी ज्यादा देर तक बनी रहती है। जिस वजह से एड़ियों के कटने-फटने की समस्या दूर होती है और आपके पैरों की सुन्दरता बढ़ती है।

2.ऑर्गाज्म प्राप्त करने की संभावनाएं बढ़ाता है: एक स्टडी के अनुसार जुराबें पहनकर सोने से आपकी ऑर्गाज्म प्राप्त करने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। क्योंकि ऐसा करने से आपके दिमाग में एक हॉर्मोन पैदा होता है, जो ऑर्गाज्म प्राप्त करने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: च्यूइंगम का सेवन सेहत के लिए हो सकता है हानिकारक]

3.रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है:
why it is important to sleep with socks onसोते समय पैर ठंडे होने से कई लोगों को बार-बार सर्दी-खांसी की समस्या होने लगती है। इसलिए रात को जुराब पहनकर सोना उनके लिए काफी फायदेमंद होता है, क्योंकि यह पैरों को ठंडे होने से रोकता है और पूरे शरीर का तापमान को एक जैसा रखता है। साथ ही बार-बार सर्दी-खांसी से प्रभावित नहीं होने की वजह से रोग-प्रतिरोधक क्षमता सुधरती है।

4.सावधानी: रात को सोते समय जुराब पहनने के साथ आपको कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए। जैसे आप काफी समय से पहनी हुई जुराबें नहीं पहने, इससे पैरों में बैक्टीरिया या फंगल संक्रमण होने की संभावनाएं हो जाती हैं। इसके साथ दूसरी और अहम सावधानी यह है कि जुराब का चुनाव सोच-समझकर करें। क्योंकि ऊनी या ज्यादा गर्म जुराबें पहनने से शरीर का तापमान ज्यादा बढ़ सकता है जिसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए हल्की और साफ जुराबें ही पहने और जुराब का चुनाव करते हुए अपने शरीर और वातावरण के तापमान को भी ध्यान में रखें। [ये भी पढ़ें: कुत्ते के साथ सोने के क्या फायदे होते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "