सफेद ब्रेड या ब्राउन ब्रेड किसका सेवन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है

Read in English
White bread or brown bread which one is better for your health

Photo credit: armenia.im

पहले के समय में बाजार में ब्राउन ब्रेड बहुत मुश्किल से मिलती थी लेकिन अब जब लोगों को ब्राउन ब्रेड के पता चल गया है तो वह सफेद ब्रेड का सेवन करना ज्यादा पसंद करते हैं। ब्राउन ब्रेड में शरीर को जरुरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें प्राकृतिक पोषक तत्व और साबुत अनाज होते हैं जो शरीर के लिए जरुरी होते हैं। आजकल लोग अपनी डाइट को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित रहते हैं जिसकी वजह से अब वह सफेद ब्रेड की जगह ब्राउन ब्रेड का सेवन करना पसंद करते हैं। सफेद ब्रेड और ब्राउन ब्रेड में सिर्फ रंग का ही नहीं बल्कि कई और भी अंतर होते हैं। इसके साथ ही पोषक तत्वों में भी अंतर होता है। ब्राउन ब्रेड में कम मात्रा में कैलोरी होती है जो मोटापा दूर करने, डायबिटीज के खतरे और कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के खतरे को कम करते हैं। तो आइए आपको वाइट और ब्राउन ब्रेड में से क्या बेहतर है उसके बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: रोजाना की आदतें जो आपके इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचाती हैं]

पोषक तत्व: ब्राउन ब्रेड में सफेद ब्रेड की तुलना में ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। साबुत अनाज में उच्च मात्रा में फाइबर होता है जिससे शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। ब्राउन ब्रेड में विटामिन बी-6, ई, मैग्नीशियम, फॉलिक एसिड, जिंक, कॉपर और मैंगनीज जैसे पोषक तत्व भी होते हैं। तो दूसरी तरफ सफेद ब्रेड में कम मात्रा में फाइबर होता है मगर ब्राउन ब्रेड की तुलना में ज्यादा कैल्शियम होता है।

कैलोरी की मात्रा: सफेद ब्रेड में एडिटिव शुगर होती है जिसकी वजह से इसमें ब्राउन ब्रेड की तुलना में ज्यादा कैलोरी होती है। अगर आप अपनी डाइट में सफेद ब्रेड शामिल करते हैं तो ध्यान रखें कि दिन में ब्रेड के दो स्लाइस से ज्यादा ना खाएं। चाहे फिर वो पिज्जा हो या सैंडविच। [ये भी पढ़ें: दैनिक जीवन की आदतें जो आपके दिल को नुकसान पहुंचाती हैं]

निर्माण में: सफेद ब्रेड को बनाते समय गेंहू से चोकर और बीज को हटा दिया जाता है और पोटेशियम, ब्रोमेट, बैंजोल पैराऑक्साइड और क्लोरी नडाई ऑक्साइड के साथ ब्लीच मिला दी जाती है। जिसका ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। वही दूसरी तरफ ब्राउन ब्रेड बनाते समय गेंहू मे से चोकर को नहीं हटाया जाता है। जिसकी वजह से ब्राउन ब्रेड में पोषक तत्व रहते हैं।

ग्लाइसेमिक इंडेक्स: ब्राउन और वाइट दोनों ब्रेड में लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स होते हैं जिसकी वजह से यह दोनों स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है। लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स से शरीर में शुगर का लेवल कम रहता है। जिससे डायबिटीज और अन्य हृदय संबंधित बीमारी होने का खतरा कम हो जाता है। [ये भी पढ़ें: नाक से जुड़ें कुछ महत्वपूर्ण बातें जो आपको जाननी चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "