नींद की झपकी लेने पर आपके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है

What Happens to Your Body When You Take Power Naps

स्वस्थ रहने के लिए नींद बहुत आवश्यक होता है क्योंकि इससे ना सिर्फ आप तरोताजा महसूस करते हैं बल्कि आपका मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर रहता है। लेकिन व्यस्त रहने की वजह से कई लोग नींद पूरी नहीं कर पाते हैं और इसलिए वो नींद की झपकी लेते हैं। नींद की झपकी लेने के भी कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं जैसे- आपका मूड बेहतर होता है, आप फ्रेश महसूस करते हैं और आपकी थकान भी दूर होती है। नींद की झपकी कम से कम 20 मिनट के लिए लेनी चाहिए, लेकिन यदि आप अधिक समय के लिए पावर नैप लेते हैं तो आपका स्वास्थ्य प्रभावित होता है। नींद की झपकी लेने की वजह से आप अपनी गतिविधि को फिर से करते वक्त सक्रिय रहते हैं। आइए जानते हैं नींद की झपकी लेने पर आपके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है। [ये भी पढ़ें: बॉडी मास इंडेक्स से जुड़ी गलतफहमियां और इनके सच]

इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है:
नींद की कमी होने के कारण आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। पावर नैप आपकी नींद को पूरी करने में मदद करता है और आपके दिमाग को रिलैक्स करता है। पावर नैप आपके शरीर के सेल्स को डैमेज होने से बचाता है और आपके इम्यून सिस्टम को भी मजबूत करता है।

आपके पेट को भरा हुआ रखता:
जब आप कम सोते हैं तो आपके शरीर का घ्रेलिन नामक हंगर हॉर्मोन उत्तेजित होता है। लेकिन यदि आप नींद की झपकी लेते हैं तो यह हॉर्मोन नियंत्रित रहता है और इस वजह से आपको खाने की क्रेविंग नहीं होती है और आपका पेट भरा हुआ लगता है। [ये भी पढ़ें: मसूड़ों की सूजन कम करने के लिए टिप्स]

प्रोडक्टिविटी को बढ़ाता है:
नींद की झपकी लेने से आपकी नींद पूरी हो सकती है और आप तरोताजा महसूस करते हैं। इस वजह से आप अपने काम में ध्यान लगा पाते हैं और साथ ही आपके काम में आपकी प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है।

मेमोरी बूस्ट करता है:
कम सोने की वजह से आपकी मेमोरी कमजोर हो जाती है और इस वजह से आप किसी को सोचने में सक्षम नहीं हो पाते हैं। लेकिन यदि आप दिन के समय कुछ मिनटों का पावर नैप लेते हैं तो इससे आपका मेमोरी बूस्ट होता है और आपकी सीखने की क्षमता भी बढ़ती है।

तनाव दूर करता है:
पावर नैप आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बेहतर विकल्प होता है। नींद की झपकी लेना एक प्रकार का स्ट्रेस रिलीवर होता है क्योंकि इस दौरान आपका दिमाग शांत रहता है और आपका चिड़चिड़ापन भी कम होता है। [ये भी पढ़ें: आपका आहार कैसे शरीर की गंध को प्रभावित करता है]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "