पेट के बल सोना सही है या नहीं

sleeping on your stomach is good or bad for you

अच्छी नींद लेना हमारे शरीर और दिमाग दोनों के लिए फायदेमंद है, क्योंकि सोते समय हम आरामदायक स्थिति में होते हैं और दिन भर की थकान से निजात पा रहे होते हैं। इसलिए हर इंसान अपनी आदतों के हिसाब से अलग-अलग शारीरिक स्थिति में सोता है, लेकिन पेट के बल सोना आपकी सेहत को प्रभावित कर सकता है। हालांकि पेट के बल सोने से आपको खर्राटे लेने और स्लीप एप्निया जैसी समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है, लेकिन यह आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव भी डालता है। आइए पेट के बल सोने के नकारात्मक प्रभावों के बारे में जानते हैं। [ये भी पढ़ें: अधिक देर बैठने से बिगड़ सकता है आपके हिप्स का आकार]

1.रीढ़ की हड्डी को नुकसान:
पेट के बल लेटने वाले बहुत लोगों को पीठ दर्द की शिकायत रहती है, जिसकी वजह से वह पर्याप्त नींद नहीं ले पाते हैं और थकान महसूस करते हैं। पेट के बल सोने से आपके वजन का दबाव कमर और रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है, क्योंकि आपका ज्यादातर शारीरिक भार इसी हिस्से के आसपास रहता है। जिससे सोते समय आपकी रीढ़ की हड्डी अपनी प्राकृतिक स्थिति में नहीं रह पाती। रीढ़ की हड्डी पर तनाव पड़ने से आपकी पूरी शारीरिक संरचना बिगड़ सकती है। साथ ही इसके आपके शरीर की सारी नसों से जुड़े होने की वजह से आपको किसी भी शारीरिक हिस्से में झनझनाहट या सुन्नपण महसूस हो सकता है।

2.गर्दन में दर्द: जब आप पेट के बल सोते हैं, तो आपके सिर की स्थिति दायीं या बायीं तरफ होती है। जिससे आपकी गर्दन और रीढ़ की हड्डी का पोस्चर बिगड़ जाता है। जिससे कुछ समय बाद आपको गर्दन के दर्द की शिकायत होने लगती है और आपकी रीढ़ की हड्डी के बीच वाले भाग जिसे डिस्क कहते हैं, उसके क्षतिग्रस्त होने की आशंका भी होती है। [ये भी पढ़ें: कम फैट वाली डाइट खाने से आपका स्वास्थ्य कैसे प्रभावित होता है]

3.गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक है: गर्भवती महिलाओं को अपनी शारीरिक स्थिति का काफी ध्यान रखना होता है, क्योंकि उनके साथ उनके शिशु का स्वास्थ्य भी जुड़ा होता है। गर्भवती महिलाओं के पेट के बल सोने से उनके गर्भ में पल रहे शिशु का स्वास्थ्य भी बाधित होता है। पेट के बल सोने से आपकी रीढ़ की हड्डी नीचे झुक जाती है, जिससे शिशु को पर्याप्त जगह नहीं मिल पाती। 2012 की एक स्टडी के अनुसार गर्भवती महिलाओं के दायीं करवट सोने से शरीर में रक्त-प्रवाह और ऑक्सीजन का स्तर ठीक रहता है।

4.पेट के बल सोने के लिए सावधानी: अगर आप अपनी आदत को जल्दी नहीं छोड़ पा रहे हैं, तो आपको तबतक कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जैसे-

  • सोते समय बिल्कुल पतला तकिया या हो सके तो तकिया का इस्तेमाल ना करें।
  • अपने पेट के निचले हिस्से के नीचे एक तकिया लगाएं, जिससे आपकी रीढ़ की हड्डी और गर्दन की स्थिति ठीक रहे।
  • सुबह उठकर कुछ देर स्ट्रेचिंग करें, इससे शरीर की मांसपेशियों में तनाव नहीं हो पाएगा। [ये भी पढ़ें: बिना कपड़ों के सोने के हैं कई फायदे]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "