अगरबत्ती से पहुंच सकता है आपको नुकसान, जानें क्या है इसके साइड इफेक्ट

Read in English
side effects to burning incense- sticks

इंसेंस स्टिक्स यानि की अगरबत्तियां घरों, मंदिरों में अक्सर पूजा करने के लिए प्रयोग में आती है। इसे जलाने पर इसकी महक पूरे वातावरण को सुगंधित बना देती है। यद्यपि अगरबत्ती की महक अच्छी होती है लेकिन इसके इस्तेमाल से शरीर को कई तरह के साइड इफेक्ट्स का सामना करना पड़ सकता है। तो आइए जानते हैं अगरबत्ती से होने वाले हानिकारक साइड इफेक्ट्स के बारे में। [ ये भी पढ़ें:लिवर की अस्वस्थता की तरफ इशारा करने वाले संकेत]

1. कोशिकाओं के लिए हानिकारक होता है:

side effects to burning incense- sticksअगरबत्ती कई खतरनाक रसायनों से मिलकर बनी होती है, अगरबत्ती में बेंजीन, जाइलीन और एल्डिहाइड जैसे खतरनाक रसायन होते हैं। इनमें से कई रसायन ऐसे होते हैं, जो जेनेटिक पदार्थ DNA की संरचना तक में बदलाव कर देते हैं। जिससे तरह- तरह की आनुवांशिक बीमारियां पैदा होने का खतरा रहता है।

2. श्वसन तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डालती है: बहुत से लोगों को अगरबत्ती के धुंए के कारण छींकने और खांसने संबंधी परेशानी पैदा हो जाती है। इसे जलाने से कार्बन डाइ ऑक्साइड एंव कार्बन-मोनो-ऑक्साइड जैसी हानिकारक गैसे निकलती है। यही कारण है कि अगरबत्ती से निकलने वाला धुंआ सिगरेट के धुंए की तरह ही खतरनाक होता है। इसलिए ये श्वसन तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।

3. अस्थमा रोगियों के लिए खतरनाक: अगरबत्ती का धुंआ अस्थमा के मरीजों की परेशानियां तो बढ़ा ही देता है, साथ ही इससे फेंफड़ों की कोशिकाओं में सूजन की परेशानी भी हो सकती है। इसके 45 मिलीग्राम का धुंआ 10 मिलीग्राम सिगरेट के रसायन के धुंए की तरह हानिकारक होता है। इसलिए अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति को अगरबत्ती का धुएं से बचकर रहना चाहिए।[ ये भी पढ़ें: बोन ब्रोथ प्रोटीन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ]

4. त्वचा संबंधी बीमारी होना: अगरबत्ती के धुंए के श्वास द्वारा शरीर में जाने से खून में  ब्लडIGE लेवल बढ़ जाता है। जिससे त्वचा संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए अगरबत्ती जलाना शरीर के लिए हानिकारक होता है।

5. न्यूरोलॉजिकल परेशानियां पैदा करता है: अगरबत्ती के धुंए में कार्बन-डाइ-ऑक्साइ़ड और कार्बन -मोनो-ऑक्साइड शरीर के लिए हानिकारक होती है, साथ ही ये दिमाग में न्यूरोलॉजिकल समस्याएं पैदा कर देती है। जिससे चीजें याद रखने में परेशानी आती है और इससे यादाश्त खोने जैसी बीमारी भी हो सकती है।[ ये भी पढ़ें:सफेद बालों को नजरअंदाज करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "