धूम्रपान करने से शरीर के कौन से अंग प्रभावित होते हैं

Read in English
Organs which are affected by Smoking

यह अच्छी तरह से ज्ञात तथ्य है कि स्वास्थ्य के लिए धूम्रपान हानिकारक होता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कैसे धूम्रपान करते हैं, लेकिन आपके स्वास्थ्य के लिए तंबाकू खतरनाक होता है। तम्बाकू में निकोटीन और कार्बन मोनोऑक्साइड होता है जो वास्तव में स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। ये पदार्थ ना सिर्फ आपके फेफड़ों को प्रभावित करते हैं, बल्कि समग्र शरीर को प्रभावित करते हैं। प्रारंभिक अवस्था में आपको खांसी, सर्दी, घरघराहट और अस्थमा जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन बाद में यह निमोनिया और फेफड़ों के कैंसर जैसी घातक बीमारियों का कारण बन सकता है। धूम्रपान के कारण शरीर को कई नुकसान हो सकते हैं। यद्यपि स्वस्थ जीवन के लिए धूम्रपान की आदत को दूर करने और दुष्प्रभावों को कम करने के लिए आपको धूम्रपान छोड़ना जरूरी होता है। [ये भी पढ़ें: विटामिन सी के अलावा सिट्रस फ्रूट के क्या लाभ होते हैं]

त्वचा:
झुर्रियों के मुख्य कारणों में से एक धूम्रपान होता है। नियमित रूप से धूम्रपान उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को गति देता है। इसके अलावा, धूम्रपान भी कई अन्य त्वचा रोगों का कारण बनता है।

आंखें:
यदि आप नियमित रूप से धूम्रपान करते हैं तो यह आंखों के लिए भी हानिकारक हो सकता है। धूम्रपान के कारण आंखों की रोशनी भी प्रभाविक होती है और साथ ही आपकी आंखों में जलन और सूजन जैसी समस्या भी हो सकती है। इसके अलावा मोतियाबिंद होने की समस्या भी बढ़ जाती है।  [ये भी पढ़ें: स्वस्थ आंखों के लिए आंवला का सेवन क्यों लाभकारी होता है]

मसूड़ें:
अगर आप धूम्रपान करते हैं तो आपको मसूड़ों की समस्या हो सकती है। गम डीजिज कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकते हैं जैसे दांतों को नुकसान, सांसों से बदबू आना और मसूढ़ों से खून आना।

पाचन तंत्र:
यदि आप धूम्रपान करते हैं तो आपको पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। धूम्रपान करने से होने वाली समस्याएं जैसे पेप्टिक अल्सर और कोलन पॉलीप्स। इसके अलावा धूम्रपान करने से टाइप 2 डायबीटिज भी हो सकता है।

दिमाग:
धूम्रपान मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक होता है। यह मस्तिष्क में ब्लड क्लॉट को बनाता है जिससे दिमाग सही तरह से काम करना बंद कर देता है और इस वजह से कई बार इंसान पारालाइज्ड भी हो जाता है।

दिल:
धूम्रपान हृदय समस्याओं के प्रमुख कारणों में से एक है। यह आपके धमनियों को कठोर बनाता है और साथ ही उनमें सिकुड़न भी लाता है जिसकी वजह से ब्लड क्लॉट मोटा हो जाता है और स्ट्रोक और हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।  [ये भी पढ़ें: सुबह के दौरान फलों का सेवन क्यों करना चाहिए]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "