जुराबों के बिना जूते पहनने से क्या होता है

Read in English
negative effects of wearing shoes without socks

फैशन स्टाइल रोजाना बनते और बदलते हैं। पिछले कुछ दिनों से एक नया ट्रेंड चल रहा है जिसमें लोग जुराबों के बिना जूते पहनते हैं। यह ट्रेंड आजकल युवाओं में बहुत प्रचलित है। कुछ लोग ज्यादा गर्मी लगने की वजह से भी बिना जुराबों के ही जूते पहन लेते हैं। लेकिन ऐसा करना आपको कई तरह से प्रभावित करता है। बिना जुराबों के जूते पहनने से आपके पैरों के स्वास्थ्य और जूतों पर बुरे प्रभाव पड़ सकते हैं, जो कि काफी कष्टदायी भी हो सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि जुराबों के बिना जूते पहनने से क्या-क्या परेशानी होती है। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आपके शरीर में ब्लड क्लॉट बन रहे हैं]

जूतों में बदबू हो जाना: बिना जुराबों के जूता पहनने से जूतों का बदबूदार होना काफी सामान्य बात है। क्योंकि जूतों की गर्मी के कारण आपके पैरों से पसीना निकलने लगता है और जूतों का सोल फोम का बना होता है जो कि सारा पसीना सोख लेते हैं। इस वजह से जूते बदबूदार बन जाते हैं और सार्वजनिक जगहों पर आपके शर्मिंदा होने का कारण भी बन सकते हैं।

पैरों में छाले: अधिकतर लोग फिट जूते पहनना पसंद करते हैं, जिस वजह से पैर ज्यादा सुरक्षित रहते हैं और आप चलने-फिरने में ज्यादा सहज महसूस करते हैं। लेकिन पसीना आने की वजह से पैरों की त्वचा मुलायम और नाजुक बन जाती है और चलने-फिरने पर जूतों के साथ रगड़ने लगती हैं। इसी रगड़ की वजह से आपके पैरों की त्वचा कट जाती है या उस पर छाले पड़ जाते हैं, जो कि काफी दर्दनाक साबित हो सकते हैं। [ये भी पढ़ें: दूध में लहसुन मिलाकर सेवन करने से क्या स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं]

जूतों के सोल का रंग बदल जाना: जुराबों के बिना जूते पहनने से पैरों से काफी पसीना निकलता है और इसके कारण आपके जूतों के सोल का रंग बदलने लगता है। जब आप चलते-भागते हैं तो आपके पैर सोल के साथ रगड़ खाते हैं और उनका रंग बदलने लगता है। इस वजह से जुराबें पहननी चाहिए, जिससे आपके जूतों और पैरों के बीच जुराब की परत होती है, जो कि पसीना सोख लेती है।

ज्यादा देर तक जूते नहीं पहन सकते हैं: अगर आप बिना जुराबों के जूते पहनते हैं, तो वह गीले और असुविधाजनक हो जाते हैं। जिसकी वजह से आपको असहजत और परेशानी महसूस होने लगती है। साथ ही ज्यादा देर तक गीले जूते पहनने से बैक्टीरियल फंगस होने की संभावनाएं भी बढ़ जाती है। [ये भी पढ़ें: लक्षणों जो बताते हैं आपमें कैल्शियम की कमी है]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "