पंजे में आने वाले खिंचाव को कैसे दूर करें

how to get rid of toe cramps

पैरों की मांसपेशियों पर अचानक से दबाव पड़ने और आराम ना मिल पाने की वजह से पंजे में खिंचाव आ जाता है। पंजे में खिंचाव आने पर बहुत तेज दर्द होता है। हालांकि इससे कोई हानि नहीं होती है फिर भी इसका ध्यान रखना जरुरी होता है। कभी-कभी एक्सरसाइज करने या अन्य गतिविधियां करने की वजह से भी पंजे में खिंचाव आ जाता है। लेकिन अगर आपके पंजे में लगातार खिंचाव आता है तो यह किसी मेडिकल कंडीशन के संकेत हो सकते हैं। पंजे में खिंचाव आने की समस्या को कुछ उपायों की मदद से ठीक किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: आसान तरीकों की मदद से शरीर को कैसे करें डिटॉक्स]

स्ट्रेच करें: जब आप लंबे समय तक काम करते हैं तो उसके लिए मसल्स को गर्म रखना जरुरी होता है। इसके लिए एक्सरसाइज करने से पहले और बाद दोनों समय स्ट्रेचिंग करें। अगर आपको रात में सोते समय पंजे में खिंचाव आता है तो रात को सोने से पहले स्ट्रेच करके सोएं। ऐसा करने से मसल्स को आराम मिलता है और आप बेहतर तरीके से सो पाते है।

हाइड्रेट: पूरे दिन सही मात्रा में पानी पीने से मसल्स में खिंचाव आने की समस्या नहीं होती है। शरीर में उचित मात्रा में तरल पदार्थ होने पर कोशिकाएं स्वस्थ रहती हैं। जब आप सक्रिय हों उस दौरान ज्यादा पानी पिएं। पानी आपकी मसल्स को हाइड्रेट रखने और आराम पहुंचाने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: लगातार डकार आने के क्या कारण हो सकते हैं]

कंप्रेसर का इस्तेमाल करें: पंजे में खिंचाव की समस्या को घर पर भी हॉट या कोल्ड कंप्रेसर की मदद से भी ठीक किया जा सकता है। गर्माहट टाइट मसल्स को आराम पहुंचाने में मदद करती है जिससे खिंचाव दूर हो जाता है तो वहीं बर्फ दर्द दूर करने में मदद करती है।

सही जूते का चुनाव करें: आप जिस तरह के जूते पहनते हैं उसकी वजह से खिंचाव हो सकता है। अगर आप पूरे दिन हील्स पहनती हैं तो इससे खिंचाव आने की संभावना बढ़ जाती है। हमेशा ऐसे शूज पहने जो आपके पैरों को आराम पहुंचाएं साथ ही सहज महसूस कराएं। अगर आप ज्यादा हील्स पहनती हैं तो फ्लैट सैंडल पहनना शुरु कर दें।

सही तरह से एक्सरसाइज करें: जब आप ज्यादा एक्सरसाइज करते हैं तो इससे आपकी मांसपेशियों पर तनाव आने लगता है और अगर आप एक्सरसाइज नहीं करते हैं तो करना शुरु कर दें। मांसपेशियों के गतिहीन होने की वजह से सर्कुलेशन कम हो जाता है जिससे खिंचाव आने लगता है। इससे बचने के लिए एक्सरसाइज करना शुरु कर दें। [ये भी पढ़ें: अत्यधिक मात्रा में सॉफ्ट ड्रिंक्स का सेवन क्यों हो सकता है हानिकारक]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "