कठिन परिस्थितियों से निकलकर कैसे आगे बढ़ें

Read in English
How to bounce back from failures and get success

जीवन को लेकर हर किसी का अगल-अलग नजरिया होता है लेकिन जीवन का हर पल एक रोमांच होता है कुछ पल अच्छे तो कुछ पल बुरे होते हैं। जब आप खराब परिस्थितियों में फंस जाते हैं तो परेशान होना जायज है लेकिन लोग अक्सर अपनी असफलता को अपनी खराब परिस्थितियों से जोड़ कर सबके सामने पेश करते हैं। यह समझना हर किसी के लिए जरुरी होता है कि हर परेशानी, हर कठिनाई और हर असफलता आपको जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है। असफलता पाने के बाद जीवन में आपको दोगुनी ऊर्जा के साथ आगे बढ़ना चाहिए। खुद को असफलता से बाहर निकालने, दोबारा परिस्थितियों का सामना करने और सफल बनाने के लिए आप ये टिप्स अपना सकते हैं। [ये भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं जो महिलाओं में आम होती हैं]

1.खुद को पीड़ित समझने की मानसिकता को छोड़ें: बहुत लोग बुरी परीस्थितियों को बहाना बनाकर प्रयास करना छोड़ देते हैं। यह सामान्य है कि बुरी परीस्थितियां हर किसी को कमजोर कर देती हैं लेकिन इसके लिए यह जरुरी है कि आप पहले खुद को पीड़ित मानना बंद करें। आप यह मानना बंद करें कि आप बुरी परीस्थितियों का शिकार हैं।

2.आगे बढ़ने के लिए योजना बनाएं और प्रयासरत रहें: एक सही प्रेरणा और योजना के बिना जीवन में आगे बढ़ना काफी मुश्किल हो जाता है। इसलिए जीवन में कठिनाइयों का सामना करने के बाद खुद को बुरी परीस्थितियों से निकालने और आगे बढ़ाने के लिए एक योजना बनाएं और उसके अनुसार आगे बढ़ें। [ये भी पढ़ें: रात को सोते समय आपको हो सकती कुछ अजीबो-गरीब समस्याएं]

3.कठिन परीस्थितियों से सीख लें: हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, एक अच्छा और एक बुरा। इसलिए हर कठिन परिस्थिति से आप कुछ सीख सकते हैं। जब भी कोई कठिन परीस्थिति आपके जीवन में आए तो कोशिश करें कि उससे आप कुछ सीखें और अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित हों।

4.खुद को माफ करना सीखें: हर बुरी परिस्थिति के लिए आप जिम्मेदार नहीं होते हैं। इसलिए खुद को कोसना बंद करें और अगर आप से गलती हुई भी है तो पहले खुद को माफ करें तभी आप आगे बढ़ने के लिए खुद को प्रेरित कर पाएंगें।

5.अपना ध्यान सफल होने पर नहीं बल्कि प्रयास करने पर लगाएं: जरुरी नहीं कि हर बार सफलता मिले। इसलिए अपना ध्यान सिर्फ सफलता पाने पर नहीं बल्कि इस चीज पर लगाएं कि आपने कितना अधिक प्रयास किया और कितना कुछ आप उस प्रयास से सीख पाते हैं। [ये भी पढ़ें: अपने दिमाग को अधिक सोचने से कैसे रोकें]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "