दस्त की समस्या के दौरान किन खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए

harmful foods that should be avoid while suffering from diarrhea

दस्त की समस्या बहुत ही असहज और परेशानी वाली स्थिति होती है, जिससे हर कोई व्यक्ति गुजर चुका होगा। दरअसल दस्त के दौरान बार-बार शौच जाने की वजह से शरीर के अधिकतर मिनरल पानी के साथ निकल जाते हैं, जिसके कारण कमजोरी और थकान जैसी समस्या हो जाती हैं। कई बार दस्त के कारण ज्यादा पानी की कमी हो जाती है और शारीरिक स्थिति खराब हो जाती है। इस समस्या के दौरान कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करना जरुरी होता है, जिससे यह परेशानी जल्दी खत्म हो जाए और ज्यादा ना बढ़ें। तो आइए जानते हैं कि दस्त के दौरान किन खाद्य पदार्थों के सेवन से परहेज करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: पैक्ड फूड आपके स्वास्थ्य के लिए क्यों हानिकारक होते हैं]

दूध:
harmful foods that should be avoid while suffering from diarrhea दस्त के दौरान आपकी आंतें कमजोर हो जाती हैं, जिस कारण यह दूध या अन्य डेयरी उत्पादों में मौजूद लैक्टोज को पचा नहीं पाती हैं और जब लैक्टोज की अत्यधिक मात्रा आंतों में पहुंचती है, तो यह स्थिति को ज्यादा खराब बना सकती है और आपको बहुत तेज पेट में दर्द की समस्या भी हो सकती है।

कॉफी: दस्त के दौरान कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए। कॉफी में मौजूद कैफीन दस्त को और ज्यादा गंभीर बना सकता है और इसके सेवन के बाद काफी बार पेशाब आता है, जिस वजह से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। कॉफी की जगह हर्बल टी का सेवन करना ज्यादा फायदेमंद साबित होगा। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं आपका हृदय सही तरीके से काम नहीं कर रहा है]

एल्कोहल: दस्त या अन्य पेट संबंधी समस्या के दौरान एल्कोहल का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह आपके पेट पर नकारात्मक प्रभाव डालती है और लिवर के मेटाबॉलिज्म को भी बाधित करती है। जिस कारण पेट को ठीक होने में समय लग सकता है और एल्कोहल आपके शरीर को डिहाइड्रेट करता है।

मिर्च: दस्त के दौरान मिर्च या मसालेदार चीजों का सख्त परहेज करना चाहिए। मिर्च में मौजूद कैप्सेसिन दस्त की समस्या को बढ़ा देता है। यह आपके पेट को असहज करता है और गैस या पेट फूलने जैसी समस्या हो सकती है। दस्त की वजह से शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है, जिस वजह से पेट में ज्यादा जलन महसूस हो सकती है।

फलियां: खाद्य पदार्थों की सूची में सोयाबीन, मटर या लाइमा बीन जैसी फलियों का नाम भी आता है। फलियां शरीर की छोटी आंतों से बड़ी आंत तक अधपची ही चली जाती है, जिससे यह समस्या और गंभीर बन जाती है। साथ ही इनमें मौजूद लेक्टिन प्रोटीन दस्त के दौरान शरीर के स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक होता है। [ये भी पढ़ें: जुराबों के बिना जूते पहनने से क्या होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "