सूरज का प्रकाश हमारे लिए क्यों हानिकारक होता है

Read in English
harmful effects of sun

सूरज का प्रकाश(Sun light) आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक(Harmful) भी होता है।

सूरज का प्रकाश(Sun light) वैसे तो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरुरी होता है। लेकिन लंबे समय तक सूरज की रोशनी में रहने की वजह से कई समस्याएं होने लगती हैं। सूरज की रोशनी में रहने से आपकी त्वचा जल जाते हैं। सूरज की रोशनी के अगर सकारात्मक प्रभाव(Positive Effects)होते हैं तो इसके नकारात्मक प्रभाव(Negative भी आपके शरीर पर पड़ते हैं। इन हानिकारक प्रभावों के बारे में जानकर खुद को प्रभावित होने से बचाया जा सकता है। तो आइए आपको सूरज के प्रकाश से आपके शरीर पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: सूरज का प्रकाश हमारे लिए क्यों जरुरी है]

सूरज के प्रकाश(Sun light) से शरीर पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव

आंखों को प्रभावित
लू लगना
हीट स्ट्रोक(Heat stroke)
सनबर्न(Sun burn)
रैशेज(rashes)

आंखों को प्रभावित:

Harmful Effects of the Sun
सूरज की रोशनी(Sun light) की वजह से आंखों पर प्रभाव पड़ता है।

सूरज की रोशनी में अल्ट्रावॉयलेट किरणों(Ultraviolet rays) आपके रेटिना(Retina)को नुकसान पहुंचा सकती हैं। रेटिना में आपकी इमेज बनती है जो दिमाग के विजुअल सेंटर(Visual center) में भेजी जाती है। साथ ही सूरज की रोशनी की वजह से कार्निया(cornea) के किनारों पर बंप्स विकसित हो सकते हैं जो बढ़ जाने के बाद आपको साफ नहीं दिखता है। [ये भी पढ़ें: आँखों के नीचे आई सूजन को कैसे करें कम]

लू लगना: सूरज की रोशनी में ज्यादा देर रहने की वजह से लू लग जाती है। इस दौरान आपके शरीर में पानी और नमक की कमी हो जाती है। इसके साथ ही अत्यधिक पसीना आने लगता है। जो लोग गर्म जगहों पर काम करते हैं उन्हें लू लगने की संभावना ज्यादा होती है।

हीट स्ट्रोक: अगर लू लग जाने के बाद उसका इलाज ना किया जाए तो इससे हीट स्ट्रोक हो सकता है। हीट स्ट्रोक जानलेवा भी हो सकता ही। हीट स्ट्रोक की वजह से आपके शरीर का तापमान अचालक से बहुत बढ़ जाता है। जिसका तुरंत इलाज करना जरुरी होता है।

सनबर्न:

Harmful Effects of the Sun
सूरज की रोशनी(Sun light) में ज्यादा समय रहने से सनबर्न(Sunburn) की समस्या हो जाती है।

सूरज की रोशनी में ज्यादा समय तक रहने की वजह से त्वचा जल जाती है। इसके लक्षण त्वचा जलने के 4-5 घंटे बाद दिखते हैं। अल्ट्रावॉयलेट किरणों की वजह से सनबर्न होता है। जिसकी वजह से त्वचा पर छाले, सूजन, दर्द और लाल भी हो सकती है।

रैशेज: हीट रैशेज त्वचा के अंदर पसीना आने की वजह से होते हैं। यह रैशेज ज्यादातर गर्दन, कोहनी आदि पर होते हैं। इन रैशेज के साथ छोटे-छोटे छाले या मुंहासें हो जाते हैं। जिसपर पसीना आने की वजह से जलन होती है। [ये भी पढ़ें: सनस्ट्रोक होने पर किसी की कैसे मदद करें]

सूरज की रोशनी हमेशा आपके लिए अच्छी हो ऐसा जरुरी नहीं होता है। कभी-कभी यह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी होती है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English)में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "