अत्यधिक मात्रा में सॉफ्ट ड्रिंक्स का सेवन क्यों हो सकता है हानिकारक

Read in English
harmful effects of drinking too much soft drinks

जब बहुत गर्मी होती है या जब हम थके हुए होते हैं तो हम अक्सर सॉफ्ट ड्रिंक्स पीना पसंद करते हैं। आमतौर पर एक गिलास पानी लोगों के लिए पर्याप्त नहीं होता है और हम इसके बजाय सॉफ्ट ड्रिंक्स पीना पसंद करते हैं। इतना ही नहीं, हम सभी जानते हैं कि इन दिनों जंक फूड्स का सेवन सभी करते है। लोग सोडा ड्रिंक्स का सेवन जंक फूड्स के साथ करना पसंद करते हैं। हालांकि, यह इससे ना केवल हमारा वजन बढ़ता है बल्कि हमारे शरीर को कई तरह से नुकसान भी पहुंचाता है। यह हमारे शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ाता है और पेट में एसिडिटी बनाता है जो पाचन के प्रक्रिया की परेशानी का कारण बनता है। इसके अलावा इसके और भी कई दुष्प्रभाव होते हैं। आइए जानते हैं अत्यधिक मात्रा में सॉफ्ट ड्रिंक्स का सेवन क्यों हानिकारक हो सकता है।  [ये भी पढ़ें: शरीर के लिए उपयोगी है सरसों का तेल]

सॉफ्ट ड्रिंक्स का सेवन क्यों हानिकारक होता है?
सॉफ्ट ड्रिंक्स और शुगर एरेडेट ड्रिंक्स पर बहुत सारे अध्ययन और शोध हैं जो साबित करते हैं कि ये मानव शरीर के लिए हानिकारक होता हैं। दुनिया के कुछ हिस्सों में इन पेय पदार्थों को हानिकारक प्रभावों के कारण प्रतिबंधित भी किया जाता है। आइए इसके दुष्प्रभावों के बारे में जानते हैं।

कैफीन, चीनी और एस्पार्टेम शामिल होता है:
सॉफ्ट ड्रिंक्स में कैफीन होता है जिसमें शुगर और एस्पार्टेम शामिल होता है। इन सॉफ्ट ड्रिंक्स में एक्सट्रा स्वीटनर और चीनी भी शामिल होता है। बच्चों को सॉफ्ट ड्रिंक नहीं पीनी चाहिए। सॉफ्ट ड्रिंक्स का सेवन हमारे शरीर में कई बीमारियों का कारण बनता है। इसके अलावा इनमें ऐसे घटक शामिल होते हैं जो हमारे शरीर को उनका आदी बना देता है। धीरे-धीरे इसके सेवन से डायबीटिज के साथ-साथ और भी कई खतरनाक बीमारी हो सकती है।  [ये भी पढ़ें: ऑरेंज एसेंशियल ऑयल के स्वास्थ्य लाभ]

शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट कम करता है:
कई लोगों को सॉफ्ट ड्रिंक्स की लत लग जाती है। लेकिन ये हमारे शरीर पर कई हानिकारक प्रभाव भी डालते हैं। ये पेय पदार्थ शरीर के मेटाबॉलिक रेट को कम करता है और वसा को जलाने वाले एंजाइम्स को नष्ट करता है। इस प्रकार किसी को इन शीतल पेय पदार्थों को दैनिक आधार पर उपभोग नहीं करना चाहिए।

मोटापा और मधुमेह(डायबीटिज) की समस्या बढ़ाता है:
कोई इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता है कि इन सोडा एरेटेड ड्रिंक्स का अधिक सेवन वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। रोजाना इनका सेवन करना अत्यधिक मोटापा का कारण बनता है। इस प्रकार शरीर में मोटापा और मधुमेह जैसी बहुत सारी समस्याएं होने लगती हैं। एक अध्ययन से पता चला है कि सोडा पीने से हमारा शरीर किस तरह से प्रभावित होता है और इससे मधुमेह और मोटापा कैसे होता है।

दांत की समस्या का कारण:
सोडा ड्रिंक्स और सॉफ्ट ड्रिंक्स एसिडिक होता है और मुंह में सामान्य पीएच के स्तर को प्रभावित करता है। जरूरत से ज्यादा सोडा ड्रिंक्स का सेवन करने से दांतों की ऊपरी परत नष्ट हो जाती है और एनैमेल को नुकसान पहुंचाती है। ना केवल हमारे दांतों को नुकसान पहुंचता है बल्कि कैविटी की समस्या भी हो जाती है।

हड्डियों को नुकसान पहुंचाता:
कोल्ड ड्रिंक्स या सोडा ड्रिंक्स का अधिक सेवन करना बोन मिनरल डेंसिटी को प्रभावित करता है। इसके कारण हड्डियां जल्दी-जल्दी फ्रैक्चर होने लगती है क्योंकि ये पेय हड्डियों को कमजोर बनाती हैं। इन ड्रिंक्स में कैफीन होता है जो पेशाब के माध्यम से शरीर से कैल्शियम एक्सक्रिशन की मात्रा में वृद्धि करता है। इस प्रकार एक अध्ययन के मुताबिक ऑस्टियोपोरोसिस और हाइपोकैल्सीमिया का खतरा बढ़ जाता है। [ये भी पढ़ें: एसेंशियल ऑयल की मदद से दूर करें कान का इंफेक्शन]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "