Sweet tooth: शुगर की क्रेविंग्स को कम करने के आसान तरीके

Read in English
how to stop sugar craving

sugar craving: अधिक शुगर हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती है। इसलिए हमें शुगर क्रेविंग्स छुटकारा पाने की कोशिश करनी चाहिए।

Craving for sugar: भारत में अधिकतर लोगों को मिठाईयां खाना पसंद होता है। हमारे देश में विभिन्न अवसरों के लिए अलग-अलग मिठाईयां होती हैं। हालांकि, हम इस सच को नहीं टाल सकते हैं किसी भी व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए अतिरिक्त शुगर का सेवन हानिकारक होता है। हम सभी को शुगर का सेवन केवल उतनी ही मात्रा में करना चाहिए जितना हमारे शरीर को जरुरत है। अनजाने में हम आवश्यक मात्रा से अधिक शुगर का सेवन करते हैं, क्योंकि हम जो भी खाते हैं उसमें थोड़ी मात्रा में शुगर कंटेन्ट होता है। सुबह की चाय या कॉफी, स्टार्चयुक्त भोजन, योगर्ट, केक, ब्रेड, चॉकलेट आदि में शुगर होती है। जिन लोगों को शुगर की क्रेविंग्स होती हैं उन्हें आधी रात को भी मीठा खाने की इच्छा होने लगती है या जब भी वे खुश या दुखी महसूस करते हैं । इसलिए आपको स्वस्थ रहने अपनी शुगर क्रेविंग्स को कम करना चाहिए। आइए जानते हैं शुगर की क्रेविंग्स को कम करने के आसान तरीके। [ये भी पढ़ें: शुगर का अधिक सेवन आपके शरीर को कैसे प्रभावित करता है]

Sugar craving: शुगर की क्रेविंग्स को कैसे कम करें

  • नेचुरल शुगर का सेवन करें
  • कम मात्रा में शुगर का सेवन करें
  • शुगर मिठाई के रुप में खाएं स्नैक्स के रुप में नहीं
  • शुगर की क्रेविंग के दौरान टहलने जाएं
  • मिनरल्स युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें

नेचुरल शुगर का सेवन करें
शुगर शुगर ही है चाहे आप इसे फल के रुप में खाते हैं या चॉकलेट के रुप में। हालांकि, नेचुरल रुप से शुगर का सेवन कम नुकसान दायक होता है। फल, सब्जियों आदि में प्राकृतिक शुगर के साथ विटामिन और मिनरल्स जैसे अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। यह रक्त में शुगर के स्तर को सीमित करने में मदद करता है और डोपामाइन के स्तर को नियंत्रित करता है। इसलिए आर्टिफिशियल शुगर के बजाय, नेचुरल शुगर का सेवन करें।

कम मात्रा में शुगर का सेवन करें

how to stop sugar craving
चीनी की अधिक मात्रा आपके शरीर को नुकसान पहुंचाती है।

हम में से बहुत से लोगों को भोजन करने के बाद शुगर खाने की इच्छा होती है। दोपहर के भोजन या रात के खाने के बाद कुछ मीठा खाना कई लोगों की आदत होती है। हालांकि, आपको शुगर का कम मात्रा में सेवन करना चाहिए। अगर आपको शुगर की लत है तो आपको तुरंत चीनी छोड़ना आसान नहीं होगा। इसलिए इसका सेवन कम कर दें। [ये भी पढ़ें: स्नैक्स जो आपके शरीर में ब्लड शुगर का स्तर नहीं बढ़ाते]

शुगर मिठाई के रुप में खाएं स्नैक्स के रुप में नहीं
बहुत से लोग अपने भोजन के बीच शुगर खाते हैं। इससे उनका दिमाग और अधिक शुगर की इच्छा करता है। भोजन के बाद मिठाई के तौर पर शुगर का सेवन ठीक है क्योंकि हमारा दिमाग भोजन के बाद तृप्त हो जाता है। हमारे भोजन में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, वसा आदि होते हैं जो शुगर की क्रेविंग को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त होते हैं। इसके अलावा, यह ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित नहीं करता है।

शुगर की क्रेविंग के दौरान टहलने जाएं

how to stop sugar craving
शुगर की क्रेविंग्स से छुटकारा पाने के लिए भोजन के बाद मीठे के रुप में इसका सेवन करें।

शुगर की क्रेविंग को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप टहलने के लिए जाएं। जब आप शुगर खाने के बजाय टहलते हैं, तो आपका दिमाग बदल जाता है। एक अध्ययन में पता चला है कि वॉक करने से शुगर की क्रेविंग को रोकने में मदद मिलती है।

मिनरल्स युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें
जब हमारे शरीर में मिनरल्स की कमी होती है तो अक्सर हमें शुगर की क्रेविंग होने लगती है। ब्लड में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने और हमारे दिल को स्वस्थ रखने के लिए हमें क्रोमियम, जिंक, मैग्नीशियम आदि मिनरल्स की अच्छी मात्रा की जरुरत होती है। इसलिए शुगर क्रेविंग्स को रोकने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, चुकंदर, संपूर्ण अनाज, नट्स आदि खाएं। [ये भी पढ़ें: हाई शुगर फूड जिनका सेवन शरीर के लिए हानिकारक होता है]

शुगर की क्रेविंग से छुटकारा पाने के लिए ये कुछ आसान तरीके हैं, आपको अधिक चीनी खाने से रोक सकते हैं। आप इस लेख को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "