दीपावली 2017: पटाखों के प्रदूषण से आंखों कौ कैसे बचाएं

Read in English
deepawali 2017: how to protect your eyes from pollution this diwali

Pic Credit: worldviewtours.com

दीपावली का त्योहार हिंदु धर्म का सबसे प्रमुख पर्व है। इस त्योहार का इंतजार सभी को सालभर रहता है। इस त्योहार की मान्यता इसलिए भी ज्यादा है क्योंकि यह त्योहार हर्षोल्लास से भरा होता है। सभी चीजें अच्छी होने के बाद भी इस त्योहार में जो गलत है वो ये कि लोग जानने के बाद भी पटाखों और फायरक्रेकर्स का इस्तेमाल करते हैं जिनमें मौजूद बारुद और रासायन ना केवल वातावरण को प्रदूषित करते हैं बल्कि आपके स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदायक होते हैं। पटाखों से होने वाले प्रदूषण के प्रभाव आपकी आंखों पर भी पड़ता है। आंखें हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग हैं और इन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता है। दीपावली पर अगर आप अपनी आंखों को किसी इंफेक्शन की चपेट में नहीं देखना चाहते हैं तो बेहतर है कि कुछ सावधानी बरती जाएं। [ये भी पढ़ें: दिवाली 2017: मिठाई के इस त्योहार के दौरान वजन को कैसे नियंत्रित रखें]

समय-समय पर आँखों को पानी से धोएं
दिवाली के समय हवा में जहरीली गैसे मौजूद होती है जिनमें मौजूग पार्टिकल्स आंखों के कॉर्नियां को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इनसे बचने के लिए पानी एक बेहतर विकल्प है। आंखों को इन गैसों के प्रभाव से बचाने के लिए पानी से आँखों को समय समय पर धोते रहें। साफ पानी हाथ में लेकर आँखों पर छपके मारे। इससे आँकों में मौजूद गंदगी भी साफ हो जाएगी।

आई ड्रॉप साथ में रखें
प्रदूषण के कारण दूषित धूल के कण हमारी आँखों में चले जाती है और इसके कारण कई समस्याएं जैसे एलर्जी, ग्लैंड्स के अंदर स्राव, जलन, सूखी आँखें, लाल आँखें, आंखों में दर्द आदि हो सकती है। इस प्रकार की समस्याओं से बचने के लिए आई ड्रॉप एक समाधान है। इसलिए दिवाली के समय में डॉक्टर द्वारा सुझाई गई आई ड्रॉप अपने साथ ही रखें। [ये भी पढ़ें: आंखों की रोशनी को बढ़ाने के अलावा भृंगराज के अन्य स्वास्थ्य लाभ]

पटाखों के धुएं से होने वाली जलन
दिवाली के समय इस्तेमाल किए जाने वाले पटाखों में रासायन और कई हानिकारक तत्व होते हैं जो कि आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं। पटाखे चलाते वक्त आंखों पर स्पेक्टेकल्स या गोगल्स जरुर पहनें। रासायन से बचने के लिए समय-समय पर हाथ धोएं।

कॉन्टेक्ट लेंस पहनते हैं तो..
अगर आप कॉन्टेक्ट लेंस पहनते हैं तो दिवाली सेलिब्रेट करते वक्त खासतौर पर फायरवर्क्स का इस्तेमाल करते समय इन्हें उतार दें और साधारण चश्मे पहनें। इससे आपकी आंखें इरिटेशन से बच जाएंगी। साथ ही पटाखों से एक हाथ की दूरी बनाकर रखें।

बच्चों की आंखों की देखभाल
बच्चों की आंखें अधिक संवेदनशील होती हैं इसलिए माता-पिता को अधिक सावधान रहना चाहिए और इस बात का ध्यान रखें कि बच्चों की आँखों को ठंडे पानी से धोएं। बच्चों को धूल वाली जगह से दूर रखें। इसके अलावा, अगर आंखों में खुजली हो रही है, तो उसे रगड़े नहीं क्योंकि इससे खुजली बढ़ जाएगी और संक्रमण की संभावना हो सकती हैं। [ये भी पढ़ें: स्वीमिंग करते वक्त अपनी आंखों की सुरक्षा कैसे करें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "