आदतें जो आपकी रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचा रही हैं

Read in English
common habits that are harming your spine

अक्सर लोगों को पीठ और कमर में दर्द होने की शिकायत होती है। यह दर्द आपकी हर रोज़ की दिनचर्या को प्रभावित करता है और आपको परेशान करता है। इसके कारण उठना, बैठना, लेटना और सोना सभी चीजें दूभर हो जाती हैं। अधिकतर लोग पीठ में होने वाले हल्के दर्द को नजरअंदाज कर देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि यह अत्यधिक काम करने या गलत स्लीपिंग पोजीशन के कारण हो रहा है है। हालांकि इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। पीठ और कमर में दर्द होने के पीछे कई वजहें हो सकती हैं जैसे चोट या कोई स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं। पीठ और कमर में दर्द होने का प्रमुख कारण रीढ़ की हड्डी का कमजोर होना भी हो सकता है। इसके लिए आपकी कई आदतें भी जिम्मेदार हो सकती हैं। आइए जानते हैं वो आदतें जो आपकी रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचा रही हैं। [ये भी पढ़ें: बढ़ती उम्र के साथ कौन से खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए]

बहुत देर तक एक जगह बैठे रहना
लंबे समय तक एक ही जगह बैठे रहने से आपकी रीढ़ की हड्डी पर दबाव बढ़ जाता है। इसलिए एक ही जगह बैठे रहने से आपकी कमर में दर्द हो सकता है। बेहतर है कि आप हर घंटे उटकर पांच मिनट के टहल लें जिससे मसल्स में रक्च का संचार बना रहें और रीढ़ की हड्डी का स्वास्थ्य भी।

तनाव
रीढ़ की हड्डी के कमजोर होने का एक कारण तनाव भी है। तनाव के कारण आपकी गर्दन और कमर की कई मसल्स पर दबाव पड़ता है जिससे इन मसल्स में कसाव बढ़ जाता है और रीढ़ की हड्डी के कमजोर होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। [ये भी पढ़ें: खाद्य पदार्थ जो विटामिन ई की कमी दूर करते हैं]

आपके गद्दे या बिस्तर
आपका गद्दा या बिस्तर भी आपकी रीढ की हड्डी को नुकसान पहुंचा सकता है। आपको हर 5 से 7 साल के बाद अपने बिस्तर के गद्दों को बदलना चाहिए। इस समय के बाद गद्दे का सॉलिडिफिकेशन खत्म हो जाता है। इससे ये जगह-जगह से ढ़ीले हो जाते हैं और इन पर सोने से आपका शरीर सही स्थिति में नहीं रह पाता जिससे आपकी रीढ़ की हड्डी को नुकसान होता है।

ऊँची एड़ी के जूते
रीढ़ की हड्डी के कमजोर होने के लिए आपके ऊंची हील के जूते और सैंडल भी जिम्मेदार हो सकते हैं। ऊँची एड़ी वाले सैंडल पहनने से आपको पैरों की मांसपेशियों पर दबाव महसूस होता है जो पीठ और कमर में दर्द का कारण बनता है। ध्यान रखें कि आपके सैंडल हल्के हो, और हील बहुत अधिक ना हो।

धूम्रपान
धूम्रपान के कई हानिकारक दुष्प्रभाव है जिसमें से एक आपकी रीढ़ की हड्डी का कमजोरी होना भी है। सिगरेट में मौजूद निकोटीन रीढ़ की हड्डी में ऑक्सीजन के संचार को बाधित करता है। रीढ़ की हड्डी ऑक्सीजन के अभाव में खुद को रिपेयर करने में अक्षम होती है। [ये भी पढ़ें: शरीर में पानी की कमी होने पर क्या होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "