पॉटी जाने से जुड़ी समस्याएं और इनके समाधान

Read in English
common bowel problems and their solutions

जब स्वस्थ शरीर की बात आती है तो स्वस्थ पाचन तंत्र के महत्व को नहीं भूलना चाहिए। पाचन का संबंध सिर्फ भोजन को अवशोषित करने और पचाने से नहीं होता है बल्कि बोवेल मूवमेंट से भी होता है। बहुत से लोगों को बोवेल की समस्या होती है। इस समस्या के पीछे अस्वस्थ भोजन का सेवन, जीवनशैली में की जाने वाली गलतियां, जंक फूड का सेवन और कब्ज होती है। बोवेल मूवमेंट की समस्या कई प्रकार की होती है। ब्लोटिंग, कब्ज आदि बोवेल से जुड़ी समस्याएं होती हैं। इन सभी समस्याओं के समाधान अलग होते हैं। तो आइए आपको बोवेल मूवमेंट से जुड़ी समस्याओं और समाधान के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: पोटेशियम के सेवन से क्या फायदे होते हैं]

कब्ज: कब्ज की समस्या ना आपको परेशान करती है बल्कि इससे आपको बेचैनी भी हो सकती है। कब्ज से मतलब आपको सही तरीके से पॉटी नहीं आना होता है। कब्ज होने के पीछे का कारण सही मात्रा में फाइबर का सेवन नहीं करना, मोचापा आदि होता है।

समाधान: कब्ज दूर करने के सबसे आसार तरीका अपनी डाइट में फाइबरयुक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें साथ ही रोजाना एक्सरसाइज करें और पानी का सेवन बढ़ा दे। [ये भी पढ़े: गर्मियों में खुद को ठंडा रखने के लिए कौन सी चीजों से बचें]

गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज: गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स की समस्या ज्यादातर रात को या खाना खाने के बाद होती है। यह समस्या तब होती है जब एसिड फूड पाइप में वापिस चला जाता है जिससे सीने में जलन होती है।

समाधान: गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज के समाधान का सबसे आसान तरीका लाइफस्टाइल और डाइट में बदलाव करना होता है। जंक फूड और उन फूड्स का सेवन ना करें जिससे सीने में जलन हो।

इरिटेबिल बोवेल सिंड्रोम: इरिटेबिल बोवेल मूवमेंट से मतलब पॉटी सही तरीके से नहीं आना होता है। इस सिंड्रोम में डायरिया, ब्लोटिंग के रुप में पॉटी आती है।

समाधान: इरिटेबिल बोवेल सिंड्रोम से बचने के लिए उन खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें जिसमें ट्रांस फैट हो। खूब सारा पानी पिएं और उन फूड्स का सेवन करें जिनमें फाइबर हो।

बवासीर: बवासीर की समस्या में ना सिर्फ दर्द होता है बल्कि कई लोगों को शर्मिंदी भी महसूस होती है। रेक्टम और एनस की रक्त कोशिकाओं में सूजन आ जाने की वजह से बवासीर की समस्या होती है। बवासीर में दर्द और खुजली होती है जिसकी वजह से कब्ज या डायरिया की समस्या हो सकती है।

समाधान: इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल करें। डाइट में फाइबरयुक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें, खूब सारा तरल पदार्थ का सेवन करें। आप गुनगुने पानी से भी नहा सकते हैं। [ये भी पढ़ें: ब्लड क्लॉट बनने से कैसे रोकें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "