एसेंशियल ऑयल की मदद से दूर करें कान का इंफेक्शन

Read in English
Amazing benefits of Essential Oils For Ear Infections

इंफेक्शन या फिर कान में चोट लगने की वजह से कान दर्द की समस्या हो सकती है। कई बार कान का इंफेक्शन लोगों के लिए परेशानी का कारण बन जाता है और इसकी वजह से असहजता महसूस होने लगती है। इसके अलावा कान में होने वाले वैक्स, साइनस इंफेक्शन या फिर टॉन्सिलाटिस की वजह से भी कान में इंफेक्शन की समस्या हो सकती है। कान का इंफेक्शन बढ़ जाने की वजह से कई बार सुनने की क्षमता कम हो जाती है। लेकिन कुछ ऐसे एसेंशियल ऑयल होते हैं जिनमें एंटीमाइक्रोबियल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है। एसेंशियल ऑयल एक तरह से एंटीबायोटिक की तरह काम करता है जो बैक्टीरिया को नष्ट करता है। आइए जानते हैं किस प्रकार एसेंशियल ऑयल की मदद कान के इंफेक्शन से निजात पाया जा सकता है।  [ये भी पढ़ें: धूम्रपान के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए उपयोगी खाद्य पदार्थ]

लहसून का तेल:
लहसून के तेल में एलिसिन उच्च मात्रा में होता है जो कान में होने वाले इंफ्लेमेशन को कम करता है और साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट भी होता है जो दर्द से राहत प्रदान करता है। इसके अलावा इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होता है जो बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करता है और इंफेक्शन को कम करता है।

टी-ट्री ऑयल:
Amazing benefits of Essential Oils For Ear Infectionsटी-ट्री ऑयल में एंटी-बैक्टीरियल गुण होता है और साथ ही एंटी-स्यूडोमोनल(इंफेक्शन फाइटिंग एजेंट) गुण भी होता है जो बैक्टीरिया और कीटाणुओं से लड़ने में मदद करता है। ये ऑयल इंफ्लेमेशन को भी कम करता है।  [ये भी पढ़ें: रोजाना नहाने से क्या फायदे होते हैं]

ओरेगानो ऑयल:
ओरेगानो ऑयल में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण होता है जो कान के इंफेक्शन को दूर कने का बेहतर विकल्प होता है। इसके अलावा इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण भी होता है जो ऑक्सीडेटिव पेन से लड़ने में मदद करता है। ये कान में होने वाले ब्लॉकेज को भी साफ करता है।

सरसों का तेल:
Amazing benefits of Essential Oils For Ear Infectionsएंटीबैक्टीरियल गुण होने की वजह से सरसों का तेल कान के इंफेक्शन को दूर करने में प्रभावी होता है। इसके अलावा इसमें एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटीऑक्सीडेंट भी होता है जो इंफ्लेम्ड टिशू को राहत प्रदान करता है और कान के इंफेक्शन के लक्षणों को भी कम करने में मदद करता है।

तुलसी का तेल:
तुलसी के तेल में एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट होते है जो बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण भी होता है जो कान के इंफेक्शन के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने में सहायता करता है। [ये भी पढ़ें: मानवीय स्पर्श कैसे फायदेमंद होता है]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "