जंक फूड का सेवन करने से स्वास्थ्य पर पड़ते हैं हानिकारक प्रभाव

Read in English
harmful effects of junk food

लोग जितना खुश होकर जंक फूड सेवन करते हैं, उसके उतने ही साइड इफेक्ट भी होते हैं। ज्यादा मात्रा में जंक फूड का सेवन करने से ओबेसिटी होने का खतरा बढ़ जाता है। आप जितना ज्यादा जंक फूड का सेवन करते हैं आपके शरीर में पोषक तत्वों की मात्रा उतनी ही कम होती जाती है। आपको यह तो पता होगा कि जंक फूड का सेवन करने से आपके स्वास्थ्य पर असर पड़ता है मगर आपको यह नहीं पता होगा कि यह आपके दिमाग पर भी नकारात्मक प्रभाव डालता है। तो आइए आपको जंक फूड का सेवन करने से होने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: जानें कौन से फल किन स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में हैं कारगर]

डिप्रेशन:
harmful effects of junk foodज्यादा मात्रा में शुगर और फैट युक्त भोजन करने से दिमाग में केमिकल एक्टिविटी में बदलाव आते हैं जिसकी वजह से आप ज्यादा मात्रा में जंक फूड खाने लगते हैं। लेकिन जब आप इन जंक फूड का सेवन करना बंद कर देते हैं तो आप तनाव के शिकार हो सकते हैं और आपको डिप्रेस महसूस होता है। जिसे दूर करने के लिए आप दोबारा से जंक फूड का सेवन करने लगते हैं। इसका सेवन करने से आपके शरीर में अमीनो एसिड जैसे पोषक तत्व कम हो जाते हैं जिसकी वजह से डिप्रेशन बढ़ जाता है। शरीर में असंतुलित फैटी एसिड की वजह से आपको डिप्रेशन का खतरा बढ़ जाता है।

भूख को नियंत्रित करने की अपनी क्षमता को कम करता है: जंक फूड का सेवन करने से आपके दिमाग को संकेत मिलते हैं जिसकी वजह से यह समझना मुश्किल हो जाता है कि कब भूख लगी है और क्या खाएं। ऐसा ज्यादा खाने की वजह से होता है। दिमाग के स्वस्थ कार्य के लिए रोजाना फैटी एसिड जैसे ओमेगा-6 और ओमेगा-3 की जरुरत होती है। इन चीजों की कमी होने से दिमाग दिमाग संबंधित समस्याएं होती है। [ये भी पढ़ें: ये लजीज ब्रेकफास्ट खाकर आप जवान बने रह सकते हैं]

धैर्य की कमी होना: रोजाना डोनट या कुछ मीठा खाने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है जिससे आपको खुशी महसूस होती है और संतुष्टि मिलती है लेकिन कुछ समय बाद यह आपको चिड़चिड़ा बना देती हैं। जंक फूड में कार्बोहाइड्रेट होते हैं जिसकी वजह से ब्लड शुगर के लेवल में बदलाव होता रहता है। अगर शुगर लेवल कम हो जाए तो चिंता, थावन की समस्या हो जाती है। शुगर और फैट से भरपूर भोजन के सेवन करने से आप भूख को शांत करने के लिए ज्यादा और जल्दी -जल्दी खाने लगते हैं। जंक फूड की लत लग जाने से आपको हर समय कुछ खाने की इच्छा होती रहती है।

याद्दाश्त संबंधी समस्या:
harmful effects of junk food उच्च मात्रा में शुगर और फैट से भरपूर भोजन का सेवन करने से दिमाग की एक्टिविटी जिसे पेप्टाइड कहते हैं कम हो जाती है। यह एक्टिविटी याद रखने में मदद करती है। इसके साथ ही दिमाग में सिनेप्सिस होते हैं जो याद्दाश्त और चीजें ध्यान रखने में मदद करते हैं। ज्यादा मात्रा में कैलोरी का सेवन करने से सिनेप्सिस के उत्पादन में बाधा उत्पन्न होने लगती है। [ये भी पढ़ें: खाद्य पदार्थ जिन्हें आप स्वस्थ नहीं मानते लेकिन वो असल में स्वस्थ होते हैं]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "