प्लियोमेट्रिक वर्कआउट क्या होता है और इसे कैसे करें

Read in English

प्लियोमेट्रिक वर्कआउट पारंपरिक मसल्स बनाने वाली एक्सरसाइज से अलग होता है। इस वर्कआउट में तेज और जल्दी एक्सरसाइज की जाती है, जो आपके शरीर पर ज्यादा दबाव डालती है। अगर आप अपने शरीर के निचले हिस्से के लिए असरदार वर्कआउट करना चाहते हैं, तो आपके लिए प्लियोमेट्रिक वर्कआउट सबसे अच्छा विकल्प है। पारंपरिक वर्कआउट में एक्सरसाइज करने का तरीका एक जैसा ही रहता है, जबकि प्लियोमेट्रिक वर्कआउट एक नया तरीका है, जिसमें आपको एक्सरसाइज को जल्दी और तेज मूव्स के साथ करना होता है, जिससे आपकी दिलचस्पी भी बढ़ती है। आइए जानते हैं कि प्लियोमेट्रिक वर्कआउट कैसे किया जाता है। [ये भी पढ़ें: बेस्ट डंबल वर्कआउट को घर पर कैसे करें]

प्लियोमेट्रिक वर्कआउट कैसे करते हैं:
प्लियोमेट्रिक वर्कआउट के अंतर्गत विभिन्न एक्सरसाइज आती हैं, जिन्हें करने का अलग-अलग तरीका होता है। इस वर्कआउट में आप अपने फिटनेस स्तर के अनुसार विविधता ला सकते हैं। प्लियोमेट्रिक वर्कआउट के अंतर्गत आने वाली दो आसान एक्सरसाइज को करने का तरीका जानते हैं।

1.बॉक्स स्टेप-अप: यह सबसे आसान प्लियोमेट्रिक एक्सरसाइज है। अगर आपने नया-नया वर्कआउट करना शुरू किया है, तो यह एक्सरसाइज सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। इसे करने के लिए आपको अपने सामने एक बड़ा बॉक्स रखना होगा और उस पर चढ़ जाएं। अब अपने बायें पैर को आराम से नीचे रखें और फिर ऊपर लाएं, उसके बाद अपने दायें पैर को नीचे रखें और फिर ऊपर लेकर आएं। बॉक्स पर चढ़ने के दौरान सिर्फ अपने पंजों का इस्तेमाल ना करें, बल्कि पूरा तलवा एक साथ रखें। [ये भी पढ़ें: स्क्वाट करने का सही तरीका क्या है]

2.बॉक्स जम्प-अप: यह प्लियोमेट्रिक वर्कआउट की काफी प्रभावी एक्सरसाइज है। इसे करने के लिए अपने सामने रखे बॉक्स पर कूदकर चढ़ें। इस एक्सरसाइज का अभ्यास करते हुए आपको सावधानी बरतने की जरुरत है या किसी ट्रेनर की देख-रेख में ही करें। इस एक्सरसाइज को हफ्ते में दो बार ही करना सही है। इसके 10 रैप के 3 सेट ही करें। जितना तेज हो सके उतनी तेज बॉक्स पर कूदें।

प्लियोमेट्रिक वर्कआउट करने के फायदें:
प्लियोमेट्रिक आपके शरीर के निचले हिस्से की मसल्स बनाने में मदद करता है और आपके कूल्हों और शारीरिक तंत्र को लचीला बनाता है। इस वर्कआउट के दौरान विविधता लाकर इसके प्रभाव को बढ़ाया जा सकता है। यह वर्कआउट मसल्स की कार्यक्षमता को बेहतर बनाता है। यह आपके शरीर को लचीला बनाता है। आपका शरीर और शारीरिक तंत्र जितना लचीला होगा, आपकी मसल्स भी उतनी तेज कार्य करेंगी। [ये भी पढ़ें: पीवीसी पाइप की मदद से वार्म-अप कैसे किया जा सकता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "

Virendra Raj

Virendra

Virendra Raj Singh is a Personal Trainer and the owner of a Strength & Conditioning Studio in North Delhi named Strength Box. Specialised in Strength...