प्रेग्नेंसी का उनतीसवां सप्ताह

Read in English
29th week pregnancy: Know what happens during this time

इस हफ्ते के साथ आपकी प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही शुरू होती है और इस वक्त आपके साथ-साथ आपके आस-पास के लोगों को भी आपके घर में आने वाले नन्हे मेहमान का पता चल चुका होता है। इस हफ्ते से आपके और आपके डॉक्टर के बीच संपर्क ज्यादा होगा, क्योंकि अब आपको अपना ज्यादा ध्यान रखना होगा। पोषक और संतुलित आहार की जरूरत इस हफ्ते से और ज्यादा हो जाती है। तो आइए जानते हैं 29वें सप्ताह में मां और बच्चे के शरीर में क्या खास बदलाव होते हैं।
मां में होने वाले शारीरिक बदलाव:
आपके शरीर में लगातार हॉर्मोनल बदलाव होंगे जिससे आपकी त्वचा पर चकत्ते आ सकते हैं, त्वचा सूखी पड़ सकती है और त्वचा में खुजली होनी शुरू हो सकती है। ऐसी स्थिति में त्वचा को खुजलाये नहीं और त्वचा की नमी बनाये रखें। खुजली, त्वचा के सूखेपन और चकत्ते की समस्या हद से ज्यादा हो तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। प्रेग्नेंसी के इस चरण में आपको मूड स्विंग्स हो सकते हैं और ज्यादा वजन की वजह से आप जल्दी थकने भी लग सकती हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान ये सब स्वाभाविक बाते हैं। इस दौरान टहलने, बैठने, खड़े होने और सोने के तरीके में बदलाव लाने के साथ-साथ गर्म पानी से नहाने की आदत डालें। ऐसा करना आपको सुकून देगा और मांसपेशियों के दर्द से भी छुटकारा दिलाएगा।
शिशु में होने वाले विकास:
उनतीसवें हफ्ते तक आते-आते गर्भ में पल रहे शिशु की लंबाई 15.2 इंच और वजन करीब 1 किलो 133 ग्राम हो जाएगा। इस दौरान बच्चे के लात-मुक्के थोड़े तेज हो सकते है जिससे आपको दर्द भी होने लगे। हालांकि, अच्छी बात ये है कि गर्भ में शिशु की ये हरकतें ये दर्शाती है कि बच्चा स्वस्थ है। कई बार ये लात-मुक्के आपकी पसलियों और श्रोणी(पेल्विस) में दर्द दे सकते हैं या फिर पेशाब में कमी ला सकते हैं। गर्भ में पल रहे शिशु की हरकतें ज्यादा दिन तक नहीं चलती हैं, क्योंकि कुछ दिनों बाद शिशु का आकार इतना बड़ा हो जाता है कि कम जगह की वजह से वो ज्यादा हरकत नहीं कर पाता। गर्भ में पल रहा शिशु लगातार विकसित हो रहा होता है। ऐसे में आपको पहले की तुलना में ज्यादा भूख लग सकती है, क्योंकि शिशु का बढ़ता आकार ज्यादा पोषण की मांग करता है। इस हफ्ते शिशु का दिमाग त्वरित गति से विकसित होता है। इस हफ्ते तक आते-आते बच्चे के सुनने की शक्ति प्रभावशाली तरीके से बढ़ जाती है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी का अट्ठाइसवां सप्ताह]
प्रेग्नेंसी के दौरान भोजन:
क्या खाएं:
इस दौरान आपको कैलोरी की अच्छी मात्रा की जरुरत होती है इसलिए आपके लिए अंडा खाना बेहतर होगा। इसमें कैलोरी, विटामिन और मिनरल्स की पर्याप्त मात्रा होती है। साथ ही ये आपके और बच्चे के विकास के लिए भी बेहतर हैं। हरी सब्जियां जैसे ब्रोकली आदि खा सकती हैं, इनमें विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो कि आपकी और बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं। शरीर में आयरन के स्तर को बरक़रार रखने के लिए रोजाना 30 मिलीग्राम आयरन लेना शुरू कर दें।
क्या ना खाएं:
नट्स आपकी सेहत के लिए जरुरी है और ये आपके सुबह के नाश्ते के लिए बढ़िया आहार भी है, साथ ही आप ये खाना पसंद भी करती हैं, लेकिन हर तरह के नट्स आपकी सेहत के लिए अच्छे नहीं होते हैं। कुछ नट्स और ड्राई फ्रूट्स ऐसे भी होते हैं जिनसे मां को एलर्जी होने की संभावनाएं होती हैं जैसे मूंगफली, काजू, अखरोट, पिस्ता आदि। इन्हें खाने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर ले लें। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी का तीसवां हफ्ता]
एक्सरसाइज:
इस सप्ताह से योग करने के लिए आपको शाम और सुबह के समय का चयन करना चाहिए। सुबह उठकर थोड़े समय के लिए केवल ध्यान करना भी लाभकारी होगा। प्रेग्नेंसी के दौरान हल्का फुल्का व्यायाम स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छा होता है। इस दौरान टहलना सबसे अच्छा व्यायाम माना जाता है। ध्यान रखें की पीठ के बल न सोएं, बल्कि बायीं तरफ सोयें। ऐसा करने से आपके शरीर में रक्त संचार सुचारू हो जाता है और गर्भ में पल रहा शिशु भी आरामदायक अवस्था में आ जाता है।
पहनावा:
प्रेग्नेंसी के दौरान ढ़ीले कपड़े पहनना बेहतर होगा। इस दौरान आप सूती कपड़ों का चुनाव कर सकती हैं। सूती फेब्रिक से बने ढीले-ढाले कपडे़ पहनने में सहज और आरामदायक होते है।
मानसिक स्वास्थ्य:
इस दौरान ज्यादा तनाव लेना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद नहीं होता। किसी भी प्रकार का तनाव न लें। भविष्य की सोचकर ज्यादा परेशान ना हो।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "