गर्भपात की ओर इशारा करते हैं ये लक्षण

what are the signs that suggest miscarriage

किसी  भी महिला के लिए प्रेग्नेंसी का समय बहुत ही संवेदनशील होता है। ऐसे समय में कई बार महिलाओं को गर्भपात की समस्या का भी सामना करना पड़ता है। इसलिए शारीरिक स्वास्थ्य का ठीक नहीं होना, किसी भी प्रकार की दुर्घटना या गलत तरीके का भोजन या दवाइयों का रिएक्शन जिम्मेदार हो सकते हैं।लेकिन प्रेग्नेंसी के दिनों में प्रसव से कुछ समय पहले ही लक्षणों के माध्यम से गर्भपात होने के संकेत मिलते हैं। इन संकेतों के माध्यम से आप गर्भपात के खतरे को भाप सकते हैं और समय पर इलाज व डॉक्टर के साथ सलाह करके इसे ठीक कर सकतें हैं। आइए जानतें हैं उन लक्षणों के बारें में जो गर्भपात जैसे खतरे के बारें में आपको सूचित करतें हैं।

आखिर क्यों होता है गर्भपात?
हम सभी के शरीर में पाई जाने वाली कोशिकाओं में कुछ गुणसूत्र होते हैं, जिनमें जीन होतें हैं। हर कोशिका में 23 गुणसूत्रों के जोड़े होते हैं, इनकी कुल संख्या 46 होती है। प्रजनन की प्रकिया के दौरान जब शुक्राणु अंडकोष में अण्डों से मिलते हैं तब दो तरह के गुणसूत्र आपस में मिलतें हैं। जब भी इनकी संख्या सामान्य से ज्यादा या कम रह जाती है तब गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है और इसका समय पर उपचार नही किये जाने पर प्रसव के समय या उससे पहले गर्भपात होने की संभावना होती है। [ये भी पढ़ें : ये हैं वो कारण जिनके वजह से होता है प्रेग्नेंसी के दौरान माइग्रेन]

गर्भपात के लक्षण:
एक शोध के अनुसार गर्भपात के तीन महत्वपूर्ण लक्षण है जो इस ओर संकेत करतें हैं कि आने वाले समय में गर्भपात हो सकता है। यदि नीचे दिए गए किसी भी लक्षण में से कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो फ़ौरन डॉक्टर से सलाह करें।

1.योनि से खून बहना (वैजिनल ब्लीडिंग):
‘द अमेरिकन कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिसिअन्स एंड ग्यनेकोलोगिस्ट्स’ के अनुसार वैजिनल ब्लीडिंग के कारण होने वाले गर्भपात की प्रतिशतता 15 से 20 होती है। इसमें योनि से रुक-रुक कर खून बहने लगता है और इसके बहने की मात्रा प्रेग्नेंसी के सप्ताह पर निर्भर करता है। खून बहने के पीछे कारण हमेशा गर्भपात नहीं होता है। अमेरिकन प्रेगनेंसी एसोसिएशन के अनुसार खून बहना 20 से 30 प्रतिशत सभी प्रेग्नेंसी में पाया जाता है। कुछ खास तरह से खून बहने के पीछे का कारण गर्भपात हो सकता है। वो इस प्रकार हैं –
* गहरा भूरा या गुलाबी रंग का खून आना
* खून के साथ टिशु का बहने लगना
* अचानक खून आना
* बहुत ज्यादा मात्रा में खून बहना

2.पेट के निचले भाग में दर्द होना:
what are the signs that suggest miscarriage
पेट के निचले भाग में योनि के पास वाले हिस्से में अचानक से दर्द शुरू होना गर्भपात की ओर सीधे-सीधे संकेत करते हैं। जब ऐसा कुछ हो तो फ़ौरन डॉक्टर के पास जाए। गंभीर श्रोणि में ऐंठन या दर्द मासिक धर्म के कारण होता है। जिससे कमर में बहुत तेज दर्द होता है।

3.उतक,द्रव या बलगम निकलना:
प्रेग्नेंसी के दौरान कई बार जब योनि के माध्यम से खून के साथ-साथ बलगम, उत्तक या द्रव आने लगे तो यह भी एक गंभीर लक्षण है यह गर्भपात कि ओर संकेत करता है। इसके साथ ही खून में सफ़ेद और गुलाबी रंग के थक्के आने लगते है, जो किसी भी प्रेग्नेंट महिला के लिए सही नहीं है। यह साफ-साफ़ गर्भाशय की थैली के फटने के लक्षण को दर्शाता है। [ये भी पढ़ें : तरीकों के इस्तेमाल से प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले गर्दन दर्द से पायें छुटकारा]

अन्य लक्षण:

इन सभी महत्वपूर्ण लक्षणों के आलावा भी कुछ ऐसे लक्षण हैं जिनके कारण गर्भपात होने की संभावना बनी रहती है। ये इस प्रकार है –
* स्तनों में ढीलापन
* बच्चे के दिल की धड़कनों का रुक जाना: प्रेग्नेंसी के छठे सप्ताह में अल्ट्रा साउंड के दौरान बच्चे के दिल की * धड़कन न मिलना भी गर्भपात का संकेत है।
* वजन कम होना: जहां एक तरफ प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में वजन बढ़ने लगता है, वहीं अगर वजन घटने लगे तो गर्भपात का लक्षण माना जाएगा।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "