कारण जिनसे गर्भावस्था के दौरान हार्ट रेट बढ़ सकती है

Read in English
Know important aspects of heart rate during pregnancy

इसमें कोई संदेह नहीं है कि माता-पिता के लिए गर्भावस्था एक रोमांचक समय होता है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक देखभाल की जरूरत होती है और साथ ही जिम्मेदारियां भी बढ़ जाती हैं। इस दौरान गर्भवती महिला को बहुत सी चीजों के बारे में पता होना चाहिए ताकि वो अपना और अपने गर्भ में पल रहे बच्चे का ध्यान रख पाए। कुछ मुश्किल चीजें होती हैं जो एक महिला को गर्भावस्था के दौरान झेलनी पड़ती हैं जैसे- तेज हार्ट रेट। गर्भावस्था के दौरान ये सबसे आम लक्षणों में से एक होता है। असामान्य हार्ट रेट मां और बच्चे दोनों के शरीर में भी जटिलताएं पैदा कर सकता है। तो इसलिए माता-पिता दोनों को गर्भावस्था के दौरान हार्ट रेट और उसके फ्लक्चुएशन पर ध्यान देते रहना चाहिए। आइए इससे जुड़ी अन्य बातों के बारे में जानते हैं। [ये भी पढ़ें: गर्भधारण के कितने समय बाद प्रेग्नेंसी के लक्षण दिखने लगते]

गर्भावस्था के दौरान व्यायाम कैसे आपके हार्ट रेट से संबंधित है?

यदि आपको लगता है कि आपको व्यायाम करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है, तो आप बिल्कुल गलत हैं। इसके अलावा, यदि आप व्यायाम नहीं करते हैं तो इससे बड़ा बुरा प्रभाव पड़ सकता है। यह गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ और लचीला रहने का एक बहुत अच्छा तरीका होता है।

इसलिए, विभिन्न व्यायाम करने से आप गर्भावस्था के दौरान अपने हार्ट रेट में उतार-चढ़ाव ला सकते हैं जो बहुत जरूरी होता है। यह हमें निम्नलिखित चीजों में मदद करता है:

  • व्यायाम करने से पीठ, कमर और शरीर के विभिन्न हिस्सों में होने वाले दर्द से राहत मिलती है।
  • अच्छी नींद प्रदान करता है।
  • वजन को नियंत्रित रखने में मदद करता है।
  • ऊर्जा स्तर को बढ़ाता है।
  • लेबर पेन और अन्य कई जटिलताओं को कम करने में मदद करता है।  [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान शिशु रात को ही ज्यादा हलचल क्यों करते हैं]

इसलिए, गर्भावस्था के दौरान व्यायाम गर्भवती महिला को वजन को नियंत्रित रखने में मदद करता है। एक स्वस्थ गर्भवती महिला को मॉडेरेट-इंटेंसिटी एरोबिक एक्टीविटी के लिए प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट एक्सरसाइज करना चाहिए। यह हार्ट रेट को 140 मिनट से भी कम प्रति मिनट रखता है। यह व्यायाम के दौरान हार्ट रेट के बारे में पता करने में मदद करता है।

व्यायाम के दौरान हमे अपने हार्ट रेट को लगातार मापना आवश्यक होता हैं। तो हम गर्भावस्था के दौरान भी ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं? लेकिन ध्यान रहे कि कोई ऐसा एक्सरसारइज ना करें जिससे बच्चे को नुकसान पहुंचें। तो इसलिए प्रेग्नेंट महिलाओं को ऐसी एक्सरसाइज करनी चाहिए जिससे उनका हार्ट रेट जरूरत से ज्यादा तेज हो जाए।

इसलिए, यदि एक गर्भवती महिला को बात करना और काम करना सहज है तो यह स्पष्ट है कि महिला गर्भावस्था के दौरान होती है अगर कोई महिला खुद को अतिरंजित करती है इसलिए, गर्भावस्था के दौरान अच्छे दिल की दर को बनाए रखने के लिए मध्यम काम करना महत्वपूर्ण है।  [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान सफेद डिसचार्ज होना कितना सामान्य है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "