क्या है फॉल्स प्रेग्नेंसी? जानें इसके कारण और लक्षण

know about symptoms of false pregnancy

गर्भावस्था के दौरान मिचली, थकान और स्तनों में सूजन आ जाना आम बात होती है। आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान यह सारे लक्षण देखने को मिलते हैं, लेकिन ऐसा हर प्रेग्नेंट महिला के साथ नहीं होता है। किसी में कुछ और लक्षण देखने को मिलते हैं। फॉल्स प्रेग्नेंसी को फैन्टम प्रेग्नेंसी के रूप में भी जाना जाता है। इसे स्यूडोसेसिस के नाम से भी जाना जाता है। यह एक असामान्य स्थिति है जो एक महिला को विश्वास दिलाती है कि वह गर्भवती है। फॉल्स प्रेग्नेंसी में गर्भ में कोई बच्चा नहीं होता है। लेकिन इसके बावजूद प्रेग्नेंसी के कुछ ऐसे लक्षण दिखते हैं जिससे किसी भी को यह भम्र हो सकता है कि वह प्रेग्नेंट है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान महसूस होने वाले लक्षणों को इन प्राकृतिक उपायों से करें दूर]

फॉल्स प्रेग्नेंसी के लक्षण:
know about symptoms of false pregnancyफॉल्स प्रेग्नेंसी में एक महिला को सामान्य प्रेग्नेंसी जैसा ही महसूस होता है। फॉल्स प्रेग्नेंसी के दौरान पेट निकलना शुरू हो जाता है जैसे आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान होता है और ऐसे में लगने लगता है कि गर्भ में बच्चे का विकास हो रहा है। एक फॉल्स प्रेग्नेंसी के समय पेट निकलने का मतलब यह नहीं होता है कि आप प्रेग्नेंट हैं। इसके बजाय यह माना जाता है कि इसके निर्माण का कुछ और कारण होता है।

  • पेट में अत्यधिक गैस का बनना।
  • कमर के पास फैट का जम जाना।
  • पेशाब लगना।
  • शरीर में खिंचाव महसूस करने लगना।
  • हमेशा सिर दर्द होना।

पीरियड्स का अनियमित रूप से होना दूसरा सबसे आम शारीरिक लक्षण होता है। कई महिलाएं अपने गर्भ में बच्चे का किक महसूस करने लगती हैं, भले ही कोई बच्चा मौजूद ना हो। इसलिए कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिनको वास्तविक गर्भावस्था के दौरान पहचानने में मुश्किल होती है और इसमें यह लक्षण शामिल हो सकते हैं:

  • सुबह के समय उल्टी जैसा महसूस करना।
  • ब्रेस्ट का अत्यधिक कोमल हो जाना।
  • ब्रेस्ट का अनियमित रूप से बढ़ने लगना।
  • स्तनपान।
  • वजन का अधिक बढ़ने लगना।
  • लेबर पेन।
  • अत्यधिक भूख लगने लगना।
  • गर्भाशय का बढ़ना।
  • गर्दन का नरम होना।
  • फॉल्स लेबर पेन।

इन लक्षणों के कारण कभी-कभी डॉक्टर को भी धोखा हो जाता है कि आप प्रेग्नेंट हैं इसलिए वह इसकी पुष्टि करने के लिए कई तरह के प्रेग्नेंसी जांच करवाते हैं। ताकि उन्हें इस बात का पता चल पाए कि कोई महिला प्रेग्नेंट है या नहीं। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले डिहाइड्रेशन के लक्षण]

फॉल्स प्रेग्नेंसी का कारण:
know-about-symptoms-of-false-pregnancyइसका कोई जवाब नहीं है कि क्यों कुछ महिलाएं फॉल्स प्रेग्नेंसी का अनुभव करती हैं। लेकिन इसके तीन प्रमुख सिद्धांत होते हैं। कुछ मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल्स का मानना है कि यह एक गहन इच्छा होती है या गर्भवती होने के डर के कारण ऐसा महसूस होता है। यह संभव है कि इसका असर सीधे एंडोक्राइन सिस्टम पर पड़ सकता है, जो प्रेग्नेंसी के लक्षण को पैदा कर सकता है। कुछ मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल का मानना है कि एक महिला गर्भवती होने का अनुभव तब करती हैं जब उनका पहले गर्भपात हुआ हो, उनमें बांझपन की समस्या हो। [ये भी पढ़ें : इन लक्षणों से जाने की नजदीक है अब प्रसव का समय]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "