World Hypertension Day 2018: गर्भावस्था के दौरान हाइपरटेंशन से जुड़ी जानकारियां

Read in English
Facts About High Blood Pressure During Pregnancy

गर्भावस्था के दौरान रक्तचाप बढ़ना दिल के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है

World Hypertension Day 2018: स्वास्थ्य से जुड़ी अनेक समस्याओं का मुख्य कारण हाइपरटेंशन होता है। पुराने समय से लोग उच्च रक्तचाप की समस्या से परेशान होते रहे हैं। हाइपरटेंशन के कारण हृदय संबंधी अनेक बीमारियां पैदा हो जाती हैं। गर्भावस्था के दौरान हाइपरटेंशन होने से माता और शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा हो जाता है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने स्वास्थ्य का अधिक ख्याल रखना जरुरी होता है। आइए जानते हैं कि हाइपरटेंशन के कारण गर्भावस्था के दौरान क्या-क्या परेशानियां पैदा हो सकती हैं। [ये भी पढ़ें: World Hypertension day 2018: आदतें जिनकी वजह से हाइपरटेंशन की समस्या बढ़ जाती है]

गर्भावस्था में हाइपरटेंशन से जुड़े कुछ तथ्य

  • गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के कारण
  • गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के प्रकार
  • गर्भावस्था में हाइपरटेंशन को ठीक करने के उपाय

1. गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के कारण-

गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के कई कारण हो सकते हैं। इस दौरान उच्च रक्तचाप की समस्या होने के सामान्य कारण निम्न हो सकते हैं। ब्लड प्रेशर कम होने की समस्या दूर करने के लिए कौन से पेय पदार्थ का सेवन करें, जानने के लिए क्लिक करें।

  • थकान
  • मोटापा
  • एल्कोहल का सेवन
  • स्मोकिंग
  • पहला गर्भाधारण
  • 40 की उम्र

2. गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के प्रकार-

1.क्रोनिक हाइपरटेंशन-

महिलाओं को अगर पहले से ही हाइपरटेंशन की बीमारी होती है तो यह गर्भावस्था के दौरान भी बनी रहती है। जिसे क्रोनिक हाइपरटेंशन के नाम से जाना जाता है।

2. गैस्टेशनल हाइपरटेंशन-

गर्भावस्था का 20वां सप्ताह खत्म हो जाने के बाद बहुत सारी महिलाओं को गैस्टेशनल हाइपरटेंशन की समस्या हो जाती है। हालांकि यह समस्या डिलीवरी के बाद खत्म हो जाती है।

3. सुपरइंपोस्ड प्रीक्लैंपसिया के साथ क्रोनिक हाइपरटेंशन-

यह क्रोनिक हाइपरटेंशन का दूसरा प्रकार होता है। जब आपको पहले से हाइपरटेंशन की समस्या हो और गर्भावस्था के बाद मूत्र के साथ प्रोटीन या अन्य तत्व स्रावित होने की परेशानी के कारण इस तरह की समस्या पैदा हो जाती है।

3. गर्भावस्था में हाइपरटेंशन को ठीक करने के उपाय-
गर्भावस्था में हाइपरटेंशन से बचने के लिए दिमाग को बहुत ज्यादा व्यस्त ना रखें और तनाव से दूर रहें।

  • रेगुलर ब्लड प्रेशर चेक करवाते रहें।
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को अनदेखा ना करें और उपचार के लिए डॉक्टर से सलाह लें।
  • हमेशा स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थों का सेवन करें, स्मोकिंग और एल्कोहल से दूर रहें। [ये भी पढ़ें: World Hypertension Day 2018: हाई बल्ड प्रेशर के लक्षण और कारण]

ये सभी गर्भावस्था से जुड़े सामान्य तथ्य होते हैं। इस उच्च रक्त चाप दिवस 2018 को सेलिब्रेट करें और खुद को स्वस्थ रखने का प्रण लें इस आर्टिकल को इंग्लिश में पढ़ने के लिए क्लिक करें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "