कितने प्रकार से हो सकता है गर्भपात

Read in English
types of miscarriages you need to know about

गर्भावस्था के दौरान 20वें हफ्ते से पहले भ्रूण की मृत्यु हो जाने को गर्भपात कहते हैं। मेडिकल भाषा में इसे स्पान्टेनिअस अबोर्शन भी कहते हैं। यह ज्यादातर प्रेग्नेंसी के शुरुआती हफ्तों में ही होता है। यह अनुभव महिलाओं के लिए काफी भावनात्मक और दुखी करने वाला होता है। गर्भपात भी कई प्रकार के होते हैं इसलिए इसे सिर्फ एक ही तरीके का ना समझें। तो आइए आपको गर्भपात के के प्रकारों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान होने वाली स्वास्थ्य समस्याएं जो आपके शिशु को नुकसान पहुंचाती हैं]

मिस्ड मिसकैरेज: इस प्रकार के गर्भपात में आपको कोई लक्षण महसूस नहीं होते हैं क्योंकि इसमें भ्रूण की मृत्यु के बारे में पता नहीं चलता है। लेकिन शरीर इसके बारे में नहीं पहचान पाता है। जिसका परिणाम यह होता है कि नाल हार्मोन्स रिलीज करती रहती है और आपको प्रेग्नेंसी के लक्षण महसूस होते रहते हैं।

थ्रेटन्ड मिसकैरेज: यह एक सामान्य मिसकैरेज की तरह होता है। इसमें आपकी सामान्य प्रेग्नेंसी के बाद भ्रूण की मृत्यु हो जाती है। इसमें सर्विक्स बंद हो जाती है लेकिन वेजाइना से ब्लीडिंग और दर्द होता रहता है। [ये भी पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग के दौरान हल्दी के स्वास्थ्य लाभ]

इनेविटबल मिसकैरेज: इस तरह के मिसकैरेज की रोकथाम नहीं की जा सकती है। इसमें आपको ब्लीडिंग होने के साथ सर्विक्स ओपन रहती है। यह थ्रेटन्ड मिसकैरेज के संकेत भी हो सकते हैं या अचानक से भी हो सकता है।

इन्कम्प्लीट मिसकैरेज: इस गर्भपात में भ्रूण की मृत्यु हो जाती है लेकिन कुछ टिशू गर्भ में ही रह जाते हैं। जिसे बाहर निकलवाने के लिए आपको डॉक्टर की मदद की आवश्यकता होती है।

कम्प्लीट मिसकैरेज: इस मिसकैरेज के दौरान महिला के गर्भ में कोई भी टिशू नहीं रहता है। जिससे महिलाओं को किसी भी तरह की समस्या नहीं होती है।

रिकरंट मिसकैरेज: कई महिलाओं को किसी तरह की मेडिकल समस्या की वजह से या महिला के शरीर में कोई परेशानी की वजह से गर्भपात होता है। इसके लिए डॉक्टर की सलाह लेना बहुत जरुरी होती है। [ये भी पढ़ें: स्तनपान कराने से मां का स्वास्थ्य कैसे बेहतर होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "