प्रेग्नेंसी के दौरान मोटापा बन सकता है परेशानी का सबब

how overweight can affect your pregnancy

Photo Credit: img.medscape.com

कभी-कभी मोटापे की वजह से महिलाओं के लिए गर्भधारण बहुत मुश्किल हो जाता है। अगर आपका बॉडी मास इंडेक्स 30 से ज़्यादा हो जाता है तो ऐसे में आपको प्रेग्नेंसी के दौरान मोटापे से दिक्कत हो सकती है। अगर आप गर्भधारण करने वाली हैं तो बुद्धिमानी इसी में है कि आप अपने वजन को कम कर लें। किसी महिला की बीएमआई अगर 18-25 तक है तो वह हेल्दी है और प्रेग्नेंसी के लिए तैयार भी हैं। प्रेग्नेंट होने से पहले हर महिला को अपनी बॉडी मास इंडेक्स का पता होना बहुत ज़रूरी होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान आपके मोटापे से आपके बच्चे को बहुत हानि पहुंच सकती है। बॉडी मास इंटेक्स इस प्रकार है:

बॉडी मास इंडेक्स वजन स्थिति
18.5 से कम कम वजन
18.5-24.9 नॉर्मल
25-29.9 अधिक वजन
30 या उससे ज़्यादा मोटापा
40 या उससे ज़्यादा अधिक मोटापा

मोटापा प्रेग्नेंसी को किस तरह प्रभावित कर सकता है:
प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आपका मोटापा बहुत अधिक है तो इससे आपकी प्रेग्नेंसी में बहुत सी उलझनें आ सकती है। आइए जानते हैं कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में जो प्रेंग्नेंसी के दौरान मोटापे की वजह से होती हैं। [ये भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान जरुर करें ये योगासन]
गर्भावधि मधुमेह(Gestational diabetes):
how overweight can affect you pregnancyप्रेग्नेंसी के दौरान जिन महिलाओं का वजन बहुत अधिक होता है उन्हें डायबिटीज़ की शिकायत हो जाती हैं। एक प्रेग्नेंट लेडी के लिए डायबिटीज होना किसी भी दृष्टि से सही नहीं है। इसकी वजह से मां बनने वाली महिला को बहुत सी बीमारियां भी हो सकती हैं।
प्रीक्लम्पसिया (Preeclampsia):
प्रीक्लमसिया हाई ब्लड प्रेशर को कहते हैं जो ज़्यादातर प्रेग्नेंसी के समय या प्रेग्नेंसी के बाद होता है। यह एक गंभीर बीमारी हैं जो महिला के पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है। इसके कारण किडनी या लीवर भी खराब होने की संभावना  बढ़ जाती है। अगर कोई महिला इस बीमारी का शिकार है तो उसकी डिलिवरी समय से पहले भी हो सकती है। गंभीर मामलों में इसका ट्रीटमेंट जल्द से जल्द हो जाना चाहिए वरना आपके बच्चे पर इसका बुरा असर पड़ सकता है। [ये भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के समय जरुरी है सुकून भरी नींद]
इंफेक्शन:
प्रेग्नेंसी के दौरान जिन महिलाओं का वजन बहुत अधिक होता है उन्हें मूत्र मार्ग में संक्रमण(urinary tract infections) की शिकायत हो सकती है। मोटापे के कारण प्रसवोत्तर संक्रमण (Postpartum infection)का खतरा भी बढ़ जाता है।
प्रसव संबंधी समस्याएं (Labor Problems):
how overweight can affect you pregnancyज़्यादा वजन वाली महिलाओं में प्रसव से जुड़ी समस्या होना बहुत ही आम बात होता है। इसमें महिलाओं को बहुत दर्द का सामना करना पड़ता है। कई बार तो यह दर्द असहनीय भी हो जाता है।
गर्भपात की संभावना:
प्रेग्नेंसी के दौरान अत्यधिक मोटापे की वजह से गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा भी प्रेग्नेंसी के दौरान मोटापा औरतों के शरीर में और भी बहुत सारी बीमारियां ला सकता है। जैसे-मैक्रोसोमिया।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "