गर्भावस्था के दौरान बच्चे के लात मारने क्या बताता है

Read in English
amazing facts about baby kicks during pregnancy

प्रेग्नेंसी के दौरान बच्चे की लात महसूस करना मां के लिए बहुत ही विशेष अनुभव होता है। खासकर तब जब बच्चा ऐसा पहली बार करता है। बच्चे की लात मारना उसके गर्भ में हो रहे वृद्धि का संकेत होता है। गर्भ में बच्चे के लात मारने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। क्या आप जानते हैं कि वो क्या कारण हैं। बच्चे के लात मारने से जुड़ी जानकारियां आपके लिए दिलचस्प और ज्ञानपूर्ण हो सकती हैं। आइए आपको इससे जुड़ी कुछ बाते बताते हैं। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान पैरों और एड़ियों के सूजन को कैसे कम करें]

बच्चे के अच्छे विकास और स्वास्थ्य का संकेत होता है: लात मारना नवजात शिशु के अच्छे विकास का संकेत होता है। इसका मतलब यह होता है कि आपका बच्चा बहुत सक्रिय है। आपको बच्चे की लात मारना तब महसूस होता है जब वह गर्भ में हिचकी लेता है या हिलता-ढुलता है। जब बच्चा अपने अंगों को गर्भावस्था के शुरुआती सप्ताह के दौरान फैलता है, तो आपको परेशानी महसूस हो सकती हैं।

बच्चा नए वातावरण में बदलाव होने पर प्रतिक्रिया देता है: वातावरण में बदलाव होने पर बच्चा लात मारता है। बाहर से कुछ शोर या मां के कुछ खाने की आवाज सुनकर बच्चा अपने अंगों को फैलाता है। यह लात मारना उनके सामान्य विकास का संकेत होता है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले कमर दर्द को इन एक्सरसाइज से करें दूर]

बच्चे का कम लात मारना उसके परेशान होने का संकेत हो सकता है:
28 हफ्ते के बाद डॉक्टर आपको बच्चा कितनी बार लात मारता है उसे गिनने को कहते हैं। अगर बच्चा लात नहीं मार रहा है या कम मार रहा है तो यह उसके पास ऑक्सीजन सप्लाई ना होने के कारण भी हो सकता है। बच्चे का हिलना और लात कम मारने का कारण शुगर लेवल का कम होना भी हो सकता है। अगर खाने के बाद भी आपका बच्चा लात नहीं मार रहा है तो एक गिलास पानी पीकर देखें।

36वें हफ्ते के बाद लात मारना कम होना परेशान होने की बात नहीं है: एक समय ऐसा आता है जब बच्चा गर्भ में 40-50 मिनट तक आराम करता है। प्रेग्नेंसी के 36वें हफ्ते के बाद आपके बच्चे का आकार बढ़ जाता है जिसकी वजह से वह ज्यादा हिल नहीं पाता है। इस दौरान आप अपनी पसलियों के नीचे एक या दोनों तरफ दोनों पक्षों के पास लात महसूस करेंगी।

बाई तरफ लेटे होने पर बच्चा ज्यादा बार लात मारता है: जब गर्भवती महिला बाई तरफ लेटी होती है तो उन्हें बच्चे के लात मारना ज्यादा बार महसूस होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बाई तरफ लेटे होने से भ्रूण को रक्त का सप्लाई बढ़ जाता है। जिसका परिणाम यह होता है कि बच्चे का मूवमेंट बढ़ जाता है और वह ज्यादा बार लात मारता है। [ये भी पढ़ें: सीजेरियन डिलीवरी कैसे मां के शरीर को करती है प्रभावित]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "