World Breast Feeding Week 2018: रात को स्तनपान कराते वक्त कौन से टिप्स का ख्याल रखें

Read in English
Nighttime Feedings and Sleep Tips for Your Breastfed Baby

WBW 2018: World Breast Feeding Week:- स्तनपान कराते वक्त रखें इन बातों का ध्यान

World Breast Feeding Week (WBW) 2018:  स्तनपान कराना किसी भी महिला के लिए सबसे अच्छा और सुखदायी पल होता है। इस दौरान मां और बच्चा दोनों एक-दूसरे के सबसे ज्यादा करीब होता है। जो महिलाएं पहली बार मां बनती हैं उन्हें स्तनपान कराने का सही तरीका नहीं होता है जिस वजह से कभी-कभी बच्चे को असहजता महसूस होती है। लेकिन जो महिलाएं एक से ज्यादा बार मां बन चुकी होती हैं उन्हें स्तनपान कराना अच्छे से पता होता है। रात को अगर आप अपने बच्चे को स्तनपान कराती हैं तो उसके लिए बहुत सी बातों को ध्यान में रखना आवश्यक होता है, वरना बच्चे को दूध पीने में परेशानी महसूस हो सकती है। आइए जानते हैं रात को स्तनपान कराते वक्त किन बातों को ध्यान में रखना जरूरी होता है। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान त्वचा संबंधी समस्याओं से कैसे बचें]

World Breast Feeding Week 2018: रात को स्तनपान कराते समय किन बातों का ध्यान रखें

  • रात के समय फीडिंग कराना ंमहत्वपूर्ण होता है
  • आरामदायी अवस्था
  • बच्चे को पास रखें
  • लाइट बंद रखें

रात के समय फीडिंग कराना महत्वपूर्ण होता हैं: रात के समय फीडिंग कराना महत्वपूर्ण होता हैं। रात में स्तनपान कराते हैं तो आपका शरीर अधिक प्रोलैक्टिन(दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने वाला हार्मोन) का उत्पादन करता है, इसलिए रात में दूध पिलाने से दूध का उत्पादन जारी रहता है और आपके बच्चे के विकास के लिए जितना दूध की आवश्यकता होती है उसे उतनी मिलती है।

अरामदायी अवस्था: जो अवस्था आपको सही सबसे आरामदायी लगे आप अपने बच्चे को उसी अवस्था में रखें। सबसे अच्छी अवस्था होती है बैठकर बच्चे को स्तनपान कराना। इसमें आपके बच्चे का मुंह निप्पल तक सही तरह से पहुंच पाता है और सही मात्रा में उन्हें दूध मिल पाती है। इसके अलावा जिन महिलाओं को अधिक दूध होता है वो इस अवस्था में स्तनपान कराते वक्त अपने बच्चे को अच्छी तरह देख पाती है और उन्हें किसी प्रकार की असहजता से बचाती हैं। [ये भी पढ़ें: हाल ही में मां बनी महिलाएं स्तनपान कराते वक्त रखें इन बातों का ख्याल]

बच्चे को पास रखें: रात के समय अपने बच्चे को अपने पास रखें, ताकि जब वो रोए तो आपको पता चल जाए और आप उसे फिड करा पाएं। इससे आपको अपने बच्चे की परेशानी के बारे में भी पता चल जाएगा।

लाइट बंद रखें: रात में जब आपका बच्चा दूध पीने के लिए जगता है तो उस दौरान आप कोशिश करें कि कमरे की लाइट ऑफ हो और रूम में किसी प्रकार का शोर ना हो। इससे आपका बच्चा दूध पीते-पीते वापस से सो पाएगा। अगर आपको ये देखना है कि आपके बच्चे के मुंह में दूध जा रहा है या नहीं तो इसके लिए नाइटलाइट या फ्लैशलाइट का इस्तेमाल करें। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के बाद त्वचा के ढीलेपन को कैसे रोकें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "