गर्भावस्था के दौरान कौन से शाकाहारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

Read in English
Vegetarian Foods To Have During Pregnancy

गर्भावस्था के दौरान अपने खान-पान का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है क्योंकि एक छोटी सी भी लापरवाही मां और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है। गर्भावस्था के समय एक गर्भवती महिला को प्रोटीन, कैल्शियम, मिनरल और विटामिन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने की जरूरत होती है ताकि शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा मिल सके और साथ ही बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास भी अच्छी तरह हो पाए। ऐसे में शाकाहारी खाने में ये सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं और साथ ही ये आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं से भी बचाते हैं। इसके अलावा शाकाहारी खाद्य पदार्थ आपके और आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक भी नहीं होते हैं। आइए जानते हैं गर्भावस्था के दौरान कौन से शाकाहारी खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था में पनीर का सेवन होता है फायदेमंद]

हरी सब्जियां:
हरी सब्जियों में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है और साथ ही ये आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम भी प्रदान करता है। हरी सब्जियां जैसे- केल, पालक, ब्रोकली इत्यादि का सेवन करना चाहिए।

दही:
दही में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं और इसमें गुड बैक्टीरिया भी होते हैं जो पाचन तंत्र को मजबूत करता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर हार्ट बर्न की समस्या होती है जो दही के सेवन से कम हो सकती है। [ये भी पढ़ें: गर्भवती महिलाओं के लिए किशमिश का सेवन क्यों लाभकारी होता है]

गाजर:
गाजर में विटामिन ए होता है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के आंखों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है और साथ ही उनके आंखों की रोशनी को भी बढ़ाने में मदद करता है।

दाल:
दाल में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन मौजूद होता है जो बच्चे और मां दोनों को ऊर्जा प्रदान करता है और साथ ही शरीर में प्रोटीन की कमी को भी पूरा करता है। इसके अलावा यह शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करता है।

नट्स:
नट्स में विटामिन-ई होता है जो बच्चे के शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करता है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान नट्स का सेवन करने से शरीर का वजन भी नियंत्रित रहता है।

केला:
केला में फाइबर उच्च मात्रा में मौजूद होता है जो गर्भवती महिला के स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता है। इसके अलावा यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है और साथ ही थकान भी दूर करता है। [ये भी पढ़ें: गर्भवती महिलाओं को पालक का सेवन क्यों करना चाहिए]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "