गर्भावस्था के दौरान पिस्ता का सेवन सुरक्षित है या नहीं

is it safe to eat pistachio during pregnancy

Pic Credit: timeanddate.com

आपके और आपके अजन्मे शिशु के बेहतर स्वस्थ के लिए गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार लेना महत्वपूर्ण है। इस समय आपको जंक फूड और बाहर के खाने से दूरी बनानी चाहिए और घर का पोषक तत्वों से भरपूर भोजन ही खाना चाहिए। पोषक तत्वों की बात करें तो पिस्ता में इनकी प्रचुर मात्रा होती है और इनके सेवन से गर्भवती महिला को जरुरी तत्वों की पूर्ति भी होती है। हालांकि ऐसे कई सवाल हैं कि क्या गर्भावस्था के दौरान पिस्ता का सेवन करना उचित है। आइए जानते हैं कि गर्भावस्था के दौरान पिस्ता का सेवन क्यों करें और क्यों नहीं। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान अंडा खाना सुरक्षित है या नहीं]

पिस्ता में पाएं जाने वाले पोषक तत्व: पिस्ता में बाकी नट्स के मुकाबले कैलोरी कम और पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होती है। एक ओंस यानि 28 ग्राम पिस्ता में निम्न पोषक तत्व मौजूद होते हैं

  • 160 कैलोरी
  • 6 ग्राम प्रोटीन
  • 2.8 ग्राम फाइबर
  • 12.71 ग्राम फैट
  • 2 ग्राम सैचुरेटेड फैट

पिस्ता के सेवन के फायदे: पिस्ता में प्रोटीन पाया जाता है जो कि शिशु की कोशिकाओं और टिशू के विकास में लाभदायक होता है।

  • पिस्ता में मौजूद मोनोसैचुरेटेड फैटी एसिड गर्भावस्था के दौरान रक्त मे गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाते है।
  • पिस्ता में पाएं जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट्स जैसे पॉलीफैनॉलिक कम्पाउंड्स, विटामिन ई और कैरोटीन गर्भवती महिला की इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं।
  • पिस्ता में कॉपर होने के कारण यह आपको गर्भावस्था के दौरान लाल रक्त कोशिकाओं के संश्लेषण में मदद करते हैं। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान नारियल पानी पीने के लाभ]
  • पिस्ता में एंटी-इंफ्लेमेट्री प्रोपर्टीज होती है जो आपको जोड़ो के दर्द और सूजन की समस्या से राहत दिलाने में मदद करते हैं।
  • पिस्ता में फाइबर की प्रचुर मात्रा होती है जो आपको कब्ज की समस्या नहीं होने देते जिससे अधिकतर गर्भवती महिलाएं परेशान होती हैं।

गर्भवस्था के दौरान पिस्ता खाने से होने वाले दुष्प्रभाव: पिस्ता के सेवन से आपको कई तरह के दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं इसलिए इसके सेवन से पहले अपने विशेषज्ञ से बात कर लें।

  • रोस्टेड पिस्ता में सोडियम की मात्रा ज्यादा होती है और इसके सेवन से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ने की संभावनाएं होती हैं।
  • अगर आपको नट्स से एलर्जी है तो गर्भावस्था के दौरान पिस्ता खाने से बचें।
  • नट्स में एनाकार्डिक एसिड नाम का एक केमिकल होता है जिसके कारण एलर्जिक रिएक्शन होते हैं। इसके कारण आपको त्वचा में खुजली, उल्टी, डायरिया आदि की समस्या हो सकती है।
  • पिस्ता में फ्रक्टेन्स होते हैं जो आपकी पाचन क्रिया को प्रभाावित करते हैं। इनके कारण आपको डायरिया, कब्ज, ब्लोटिंग, पेट दर्द आदि समस्या हो सकती हैं। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के बाद रिकवर करने के लिए कौन से फूड्स होते हैं फायदेमंद]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "