गर्भावस्था में आम खाने के फायदे

health-benefits-of-eating-mangoes-in-pregnancy

गर्भावस्था में महिलाओं को अक्सर आम जैसे स्वादिष्ट फल का सेवन करने की क्रेविंग होती है लेकिन अक्सर उनके मन में यह संशय रहता है कि प्रेग्नेंसी के दौरान आम खाना चाहिए या नहीं? आम स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्यवर्धक भी होता है। गर्भावस्था में कुछ सावधानियों के साथ अगर आम का सेवन किया जाए तो यह महिलाओं और शिशु दोनों के लिए लाभकारी होता है। आइए जानते हैं कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के आम खाने के क्या फायदे होते हैं और इस दौरान क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। [ये भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान कौन से शाकाहारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें]

गर्भावस्था में आम खाने के फायदे:

1.एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है: आम में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी होता है जो कि एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है। यह बीमारियों के खतरे को कम करता है साथ ही त्वचा के लिए भी लाभकारी होता है इसलिए गर्भावस्था के दौरान एक निश्चित मात्रा में आम खाना सेहतमंद होता है।

2. पेट के लिए फायदेमंद होता है: आम में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जो कि पाचन तंत्र के लिए लाभकारी होता है। आम खाने से कब्ज जैसी समस्याएं नहीं होती इसलिए गर्भावस्था में आम का सेवन करना उपयोगी होता है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान इमली का सेवन क्यों फायदेमंद होता है]

3. विटामिन ए का अच्छा स्रोत होता है: आम में विटामिन ए पर्याप्त मात्रा में होता है जो कि माता और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए लाभकारी होता है। आम खाने से बच्चे की हड्डियों के विकास में सहायता मिलती है साथ ही आंखों के लिए भी इसका सेवन फायदेमंद होता है।

4. फ्लूइड को बैलेंस रखता है: आम में इलेक्ट्रोलाइट्स जैसे पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सोडियम आदि होते हैं। ये पोषक तत्व फ्लूइड बैलेंस करने में मदद करते हैं। इलेक्ट्रोलाइट नसों, हृदय, दिमाग, मसल्स की कार्यप्रणाली को सुचारु रखने में मदद करते हैं। इसलिए गर्भावस्था में आम खाना लाभकारी होता है।

सावधानियां: 

  •  आम को खाने से पहले अच्छी तरह से धो लें ताकि पेस्टीसाइड और केमिकल्स खत्म हो जाए।
  • आम को धोने के बाद छीलकर खाएं।
  • हाइजीन का ख्याल रखें। आम को काटने के लिए चाकू आदि भी धुले हुए होने चाहिए।
  • निश्चित मात्रा में ही आम का सेवन करना चाहिए। इससे अधिक आम खाना हानिकारक हो सकता है। [ये भी पढ़ें: गर्भवती महिलाओं को पालक का सेवन क्यों करना चाहिए]
    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "