प्रेग्नेंसी के दौरान प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए करें इन पदार्थों का सेवन

why high protein diet is beneficial for pregnant women

प्रोटीन सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है जिसे गर्भावस्था के दौरान जरूर लेना चाहिए। यह शरीर में कई तरह की क्रियाओं के लिए जरूरी होता है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन के सेवन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की अपर्याप्त मात्रा बच्चे के उचित विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है। बच्चों के उचित विकास के लिए रोजाना 60 ग्राम प्रोटीन का सेवन करना आवश्यक होता है। आइए कि महिलाएं ये हाई प्रोटीन किन उत्पादों के जरिए ले सकती हैं। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान कौन से फ्रूट जूस का सेवन करना होता है फायदेमंद]

डेयरी प्रोडक्ट:
डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। खाद्य पदार्थ जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर का रोजाना सेवन करना मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। डेयरी प्रोडक्ट कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस(भ्रूण) के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है।

बीज और नट्स:
why high protein diet is beneficial for pregnant womenबस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान अच्छे पोषण के लिए करें इन फलों का सेवन]

बीन्स और लिगम्स:
why high protein diet is beneficial for pregnant womenइनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो शरीर को बहुत सारे प्रोटीन प्रदान करते हैं।

दलिया:
why high protein diet is beneficial for pregnant womenओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है जो प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए आवश्यक होता है। इसका सेवन करना मां और बच्चे के विकास के लिए अच्छा होता है और साथ ही ये स्वास्थ्य से जुड़ी हर समस्या के लिए भी बेहतर विकल्प होता है। [ये भी पढ़ें: गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी के लक्षण और कारण]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "