आपके शिशु के विकास के लिए विटामिन ई क्यों है आवश्यक

आप ये तो जानते ही हैं कि विटामिन और मिनरल्स आपके बच्चे की वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक होते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य और विकास के लिए विटामिन ई भी महत्वपूर्ण है। विटामिन ई हमारे शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों में से एक है। विटामिन ई एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है जो कि हमारे शरीर की कोशिकाओं की रक्षा करने और इन्हें डैमेज होने से बचाने में मदद करता है।यह कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। आपके शिशु के आहार में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा होना क्यों जरुरी है और किन खाद्य पदार्थों से इसकी पूर्ति की जा सकती है आइए जानते हैं। [ये भी पढ़ें: क्या बच्चों के स्वास्थ्य के लिए उचित है चाय और कॉफी का सेवन]

विटामिन ई क्या है: विटामिन ई एक फैट-सॉल्यूबल विटामिन है जिसका मतलब है कि हमारा शरीर इसे स्टोर कर सकता है और जरूरत पड़ने पर इसका उपयोग कर सकता है। यह विटामिन शरीर में एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। शिशुओं और बच्चों को विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए विटामिन ई आवश्यक होता है। इसे बच्चों के आहार में शामिल करने से आप शिशु को आवश्यक पोषक तत्वों की कमी से बचा सकते हैं।

बच्चों के लिए विटामिन ई क्यों जरुरी है: बच्चे के विकास में विटामिन ई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इससे शिशु को निम्न स्वास्थ्य लाभ होते हैं।

  • शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को दुरुस्त करता है
  • शरीर के विभिन्न अंगों में रक्त के फ्लो को सही रखने के लिए रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है
  • शरीर की कोशिकाओं को सही ढंग से कार्य करने में मदद करता है
  • यह एक एंटी-ऑक्सीडेंट है जो फ्री-रेडिकल्स के खिलाफ शरीर की रक्षा करता है। इन फ्री रेडिकल्स के कारण कैंसर, अल्जाइमर रोग, स्ट्रोक और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।
  • आंख की रोशनी को बढ़ाता है
  • हृदय सम्बंधी बीमारियों को रोकने में मदद करता है
  • इस बात का ध्यान रखें कि आपका बच्चा विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा का सेवन कर रहा है ताकि उसको विभिन्न बीमारियों और संक्रमण से बचाया जा सके।  [ये भी पढ़ें: बच्चे के लिए क्यों जरूरी है एवोकाडो का सेवन]

विटामिन ई के अच्छे स्रोत: बच्चे के शरीर में रोजाना विटामिन ई की जरुरी मात्रा की पूर्ति के लिए आप निम्न खाद्य पदार्थों को अपने बच्चे के आहार में शामिल कर सकते हैं-

  • बादाम
  • पीनट बटर
  • गेहूं के बीज का तेल
  • सूरजमुखी का तेल
  • आलमंड बटर
  • सूरजमुखी के बीज
  • भुना हुई मूँगफली
  • कीवी
  • मकई का तेल
  • पालक
  • ब्रोकली
  • सोयाबीन ऑयल
  • आम
  • अंडे
  • अनाज

बच्चों के लिए क्या है विटामिन ई की उचित खुराक: अलग-अलग उम्र के बच्चों के लिए विटामिन ई अलग-अलग मात्रा में दिया जाना चाहिए। 6 महीने के बच्चे को 4 मिलीग्राम से कम विटामिन ई का सेवन कराएं। 7 से 12 महीने के बच्चे को 5 मिग्रा, 1 से 3 साल के बच्चे को 6 मिग्रा और 4 से 8 साल के बच्चों को स्वस्थ रहने के लिए 7 मिग्रा विटामिन ई की जरुरत होती है।

विटामिन ई के सेवन से होने वाले नुकसान: विटामिन ई सप्लीमेंट का अधिक सेवन करने से विशेष रूप से बच्चों को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा हो सकता है। विटामिन ई सप्लीमेंट का लंबे समय तक ज़रूरत से ज्यादा सेवन करने से बच्चे को सिर दर्द, मिचली, थकान, और रक्तस्राव जैसी परेशानी हो सकती हैं। [ये भी पढ़ें: शिशु को कब और कैसे लगवाएं हेपेटाइटिस ए का टीका]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "