शिशु जब हाथ से खाने लगे तो कौन से खाद्य पदार्थ उन्हें देने चाहिए

Read in English
Which foods you should give to babies when they start eating with hand

शिशु जब छह महिना या उससे अधिक का हो जाता है तो उसे ब्रेस्ट मिल्क के साथ-साथ पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करवाना चाहिए क्योंकि इससे उनका अच्छी तरह से मानसिक और शारीरिक विकास होगा। अगर आपका बच्चा खुद से खाने लगा है तो आपको हमेशा सतर्क रहने की जरूरत है और साथ ही ऐसे खाद्य पदार्थ उन्हें देने चाहिए जिसे वो अच्छी तरह निगल सके और उनके गले में अटके नहीं क्योंकि अगर खाना उनके फूड पाइप में अटक जाएगा तो इससे उनको खतरा हो सकता है। ऐसे में आपको हमेशा खाना देते वक्त ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं आपका शिशु जब हाथ से खाने लगे तो कौन से खाद्य पदार्थ उन्हें देने चाहिए। [ये भी पढ़ें: नवजात शिशु के खिलौनों और सिप्पी कप का क्यों ध्यान रखना चाहिए]

बटर टोस्ट:
शिशु के लिए बटर टोस्ट एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ होता है। इसे आपके बच्चे को निगलने में कोई परेशानी महसूस नहीं होगी। सलाइवा की वजह से टोस्ट नरम हो जाता है और आसानी से मुंह में डिजॉल्व हो जाता है। ऐसे में अपने बच्चे को इसका सेवन करने के लिए बिना किसी चिंता के खाने को दे सकते हैं।

फल:
फलों का सेवन आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। फलों में फाइबर उच्च मात्रा में पाए जाते हैं जो बच्चे के लिए फायदेमंद होता है। केले का सेवन आपके बच्चे के लिए सुरक्षित होता है क्योंकि इसे आसानी से निगला जा सकता है। बीज वाले फल देने से बचें। [ये भी पढ़ें: शिशु जब हाथ से खाने लगे तो कौन सी बातें ध्यान रखें]

सब्जियां:
सब्जियां आपके बच्चे के अच्छे विकास के लिए बहुत जरूरी होता है क्योंकि इनमें बहुत से पौषक तत्व होते हैं। लेकिन कोशिश करें कि सब्जियों को उबालकर अपने बच्चे को दें ताकि वो उसे आसानी से निगल सकें और साथ ही उसके पोषण का भी आनंद उठा सकें।

बिस्कुट:
बिस्कुट होल व्हिट फ्लोर से बना हुआ होता है और इस वजह से वो आपके बच्चे के सलाइवा की वजह से पूरी तरह से डिजॉल्व हो जाता है और छोटे-छोटे टुकड़ों में ब्रेकडाउन हो जाता है। यह आपके बच्चे को असहज भी महसूस नहीं होने देता है।

नट्स:
नट्स में कई पोषक तत्व होते हैं जैसे- प्रोटीन, कार्बोहाईड्रेट, मिनरल्स और विटामिन्स। यह सारे पोषक तत्व आपके शिशु के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं और उन्हें इंफेक्शन से भी बचाते हैं। लेकिन नट्स को पूरी तरह से ग्राइन्ड कर के अपने बच्चे को दें वरना वो इसे अपने गले में फसां लेंगे जिससे उन्हें खतरा हो सकता है। [ये भी पढ़ें: नखरीले बच्चों को कैसे संभाले]

 

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "